WhatsApp: 25 मई, भारत सरकार के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में मुकदमा, कहा नए IT Rules का मतलब प्राइवेसी खत्म।

WhatsApp: 25 मई, भारत सरकार के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में मुकदमा, कहा नए IT Rules का मतलब प्राइवेसी खत्म।
In this illustration photo, the logo of WhatsApp is displayed on a smartphone in Tehatta, Nadia, West Bengal, India on June 10, 2020. WhatsApp regularly comes with new features and updates that make the messaging experience better. Recently, WhatsApp rolled out Dark Mode, increased group voice and video call limit from four to eight, restricted frequently forwarded messages to be sent to more than one chat at a time. (Photo Illustration by Soumyabrata Roy/NurPhoto via Getty Images)

WhatsApp ने नए IT Rules में शामिल केवल एक धारा के खिलाफ यह अर्जी दायर की है। 25 मई तक इन प्लेटफोर्मों को, कुछ सामग्रियों के खिलाफ दर्ज शिकायत पर, एक मासिक रिपोर्ट प्रस्तुत करनी थी। दुनिया भर में लोग #WhatsApp के साथ इस बात पर अपने विचार रख रहे हैं।

WhatsApp ने नए IT Rules को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। WhatsApp का कहना है कि  नए IT Rules से प्राइवेसी खत्म हो जाएगी। WhatsApp ने अपनी अर्जी  IT Rules के एक नियम को हटाने के लिए  दायर की है। आपको बता दें कि बुधवार, 25 मई से सभी सोशल मीडिया प्लेटफोर्मों को नए IT Rules का पालन करना होगा।

कंपनी ने कहा है कि भेजे गए मेसेज का रास्ता पता करने के लिए, हमें हर व्यक्ति के हर एक मेसेज का fingerprint रखना होगा। इससे End to End encryption खत्म हो जाएगा और यह लोगों की प्राइवेसी को, मौलिक रूप से कमजोर कर देगा। दिग्गज Messaging App, Whatsapp ने आगे कहा,"हम लगातार समाज और दुनिया भर के विशेषज्ञों के साथ उन जरूरतों का विरोध कर रहे हैं, जो हमारे उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता का उल्लंघन करेंगे।

इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि संदेशों को ट्रैक करना, नामुमकिन जैसा है, क्योंकि बहुत सारे लोग Copy और Paste करके मेसेज  करते हैं। इतने बड़े स्तर पर लोग जिस सेवा का उपयोग कर रहे हैं, उसमें ऐसा करना नए खतरों को बुलावा देगा और इस सेवा को असुरक्षित बना देगा 

ANI ने ट्वीट करते हुए लिखा,"WhatsApp ने केंद्र सरकार के हालिया IT RULES को चुनौती देते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi High Court) का रुख किया, जिसमें WhatsApp पर भेजे गए विशेष मेसेज के ओरिजिन का पता लगाने की आवश्यकता होगी।"

 ट्वीट का लिंक –

इस मुद्दे पर 4.5 लाख से अधिक लोगों ने ट्विटर पर ट्वीट किया है। CNBC-TV18 और  Reuters India जैसी न्यूज़ एजेंसियों  ने भी ट्वीट करके यह जानकारी दी है।

नए IT Rules के मुताबिक, इन सोशल मीडिया प्लेटफोर्मों को, कुछ सामग्रियों के खिलाफ दर्ज शिकायत पर, एक मासिक रिपोर्ट प्रस्तुत करनी थी। IT Ministry यह भी चाहता है कि  Whatsapp पर संदेश को भेजने वाले मूल व्यक्ति की पहचान की व्यवस्था भी की जाए।

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com