मेजेगान डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड, RNAVAL के लिए लगाएगा बोली

MUMBAI, INDIA - SEPTEMBER 28: The inauguration of Aircraft Carrier Dry Dock, housed within the Naval Dockyard, is capable of India's largest ship INS Vikramaditya at Naval Dock, on September 28, 2019 in Mumbai, India. INS Khanderi is fully automated and has been built at the Mazagon Dock Shipbuilders Limited in Mumbai. The submarine's induction into Indian Navy comes after it successfully cleared all the rigorous sea trials and tests in over last two and a half years. This state-of-the-art submarine has been built with such a technology that reduces its noise when it is under the sea. It can roll-in a crew of 36 members. (Photo by Anshuman Poyrekar/Hindustan Times via Getty Images)
MUMBAI, INDIA - SEPTEMBER 28: The inauguration of Aircraft Carrier Dry Dock, housed within the Naval Dockyard, is capable of India's largest ship INS Vikramaditya at Naval Dock, on September 28, 2019 in Mumbai, India. INS Khanderi is fully automated and has been built at the Mazagon Dock Shipbuilders Limited in Mumbai. The submarine's induction into Indian Navy comes after it successfully cleared all the rigorous sea trials and tests in over last two and a half years. This state-of-the-art submarine has been built with such a technology that reduces its noise when it is under the sea. It can roll-in a crew of 36 members. (Photo by Anshuman Poyrekar/Hindustan Times via Getty Images)

मेजेगान डाॅक आईबीसी द्वारा चलाए बिडिंग प्रोसेस से दूर होने के बावजूद अब भी RNAVAL यार्ड पर अपनी आंखें गड़ाए है

भारत के बड़े वारशिप बिल्डर मेजेगान डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड ने कहा कि वह दिवालिया शिपबिल्डर्स रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग लिमिटेड (RNAVAL) के लिए बोली लगाएंगे।

गुरुवार को मेजेगान डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर नारायण प्रसाद  ने कहा, 'यदि RNAVAL यार्ड बिक्री में कम कीमत पर मिले तो हम इसके लिए बोली लगाएंगे'। मेजेगान डॉक जो कि कुछ ही समय में अपने शेयर की बिक्री और अपनी विदेशी मुद्राओं की सूची जारी करेगा ने कहा,  कि वह यार्ड पर कोई भी फैसला करने से पहले तब तक इंतजार करेगा जब तक राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण की अहमदाबाद बेंच में चल रही कॉर्पोरेट इन्सॉल्वेंसी रेजोल्यूशन की प्रक्रिया पूरी नहीं होती।

प्रसाद जिसने भारतीय नौसेना में अपने कार्यकाल के दौरान यार्ड को करीब से देखा था ने बताया, 'अंत में अगर वह यार्ड को बिक्री में कम कीमत पर बेचने का फैसला करते हैं, हमने यार्ड के लिए बोली लगाने से इनकार नहीं किया है क्योंकि यह एक बढ़ा टेक्नोलोजी योग्य और मेरे लिए क्षमता बढ़ाने वाला है'। प्रसाद ने अपने कार्यकाल के दौरान पांच आफशोर पेट्रोल जहाजों का आदेश दिया था।

इस समय मेजेगान डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड के पास 54,469 करोड़ का ऑर्डर बुक है, जो 6-7 साल तक चलेगा। भविष्य में मेजेगान ने भारतीय नौसेना की छह नई पीढ़ी के मिसाइल वैसल के लिए लगभग 12,000- 15,000 करोड़ रुपयों कि बोली लगाई है। जबकि वह छह आफशोर पेट्रोल जहाजों के लिए मूल्य बोली प्रस्तुत करेंगे जिसमें प्रत्येक की कीमत 700-800 करोड़ रुपए होगी। इसके लिए नौसेना ने प्रस्तावों का अनुरोध किया है।

मेजेगान इसके अलावा 1-3 सालों में कई अन्य डिफेन्स टेंडर में भाग लेगा, जिनमें सात नई पीढ़ी के कोरवेट, छह नई पीढ़ी के डिस्ट्रॉयर्स, छह हाई स्पीड लैंडिंग क्राफ्ट, एक पोलर रिसर्च वेस्सल के साथ साथ कई और टेंडर शामिल हैं।

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com