Kohli-Kumble Controversy: कोहली ने कहा “कुंबले से डरते थे युवा खिलाड़ी”, विनोद राय ने अपनी किताब में किया खुलासा

 Kohli-Kumble Controversy: कोहली ने कहा “कुंबले से डरते थे युवा खिलाड़ी”, विनोद राय ने अपनी किताब में किया खुलासा

भारतीय टीम के पूर्व कोच अनिल कुंबले (Anil Kumble) और कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के बीच मतभेद की खबरें अक्सर सुर्खियों में रहीं हैं. इन दोनों स्टार खिलाड़ियों ने भारतीय टीम को आगे ले जाने के लिए एक साथ काम किया था. लेकिन कई विवादों के बीच, यह जोड़ी टूट गई और दोनों के रिश्तों में खटास आ गई. अब अनिल कुंबले और विराट कोहली से जुड़े एक और बड़े विवाद का खुलासा हुआ है.

दरअसल, साल 2017 के IPL (इंडियन प्रीमियर लीग) में हुए फिक्सिंग विवाद के बाद, भारतीय क्रिकेट काफी मुश्किलों के दौर से गुज़र रहा था. ऐसे वक्त पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने पूर्व कान्ट्रोलर और ऑडिटर जनरल, विनोद राय (Vinod Rai) को भारतीय क्रिकेट को संभालने की जिम्मेदारी सौंपी थी. आपको बता दें, कि सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) की ऐडमिनिस्ट्रेटर की एक कमिटी बनायी थी, जिसकी कमान विनोद राय को दी गई थी. वहीं, इसी दौरान भारतीय क्रिकेट में एक बड़ा विवाद भी चल रहा था, जो अनिल कुंबले और विराट कोहली के बीच था. अंत में यह विवाद इतना बढ़ गया, कि खुद अनिल कुंबले ने अपने कोच पद से इस्तीफा दे दिया.

अपनी किताब, 'नॉट जस्ट ए नाइटवॉचमैन- माय इनिंग्स इन द बीसीसीआई' (Not Just a Nightwatchman: My Innings in the BCCI ) में पूर्व आईएस अधिकारी विनोद राय ने भारतीय क्रिकेट के इस विवाद पर खुलकर अपनी बात रखी है. आपको बता दें, कि साल 2017 में विनोद राय को क्रिकेट ऑफ ऐडमिनिस्ट्रेटर (CoA) बनाया गया था और इसी कमिटी ने भारतीय क्रिकेट को तीन साल तक चलाया था.

प्राप्त खबरों के अनुसार, विराट कोहली और अनिल कुंबले विवाद पर विनोद राय ने दावा किया, कि कप्तान और कोच का रिश्ता किसी भी लिहाज से सही नही था. विनोद राय ने अपनी किताब में लिखा, "कप्तान और टीम प्रबंधन के साथ मेरी बातचीत में मुझे यह पता चला, कि अनिल कुंबले बहुत ज्यादा अनुशासक थे और इसी वजह से टीम के सदस्य उनसे ज्यादा खुश नहीं थे. मैंने विराट कोहली से इस बारे में बात की थी और उन्होंने यह कहा था, कि जिस तरह से कुंबले टीम के युवा सदस्यों के साथ काम करते थे, वह उनसे काफी डरे हुए रहते थे”.

विनोद राय ने अपनी किताब में आगे लिखा, कि अनिल कुंबले ने CoA को बताया था, कि वह टीम की भलाई के लिए ही काम करते हैं. मुख्य कोच के तौर पर उनके रिकॉर्ड को ज्यादा महत्ता दी जानी चाहिए न कि खिलाड़ियों की शिकायतों पर गौर करना चाहिए.

विनोद राय ने लिखा, 'जब वह यूके से लौटकर आए, तो हमने अनिल कुंबले से लंबी बातचीत की और जिस तरह से पूरी घटना सामने आयी, उससे वह जाहिर तौर पर काफी निराश थे. अनिल कुंबले को लगता था, कि उनके साथ गलत व्यवहार किया गया, एक कप्तान और टीम को इतनी महत्ता नहीं दी जानी चाहिए. कोच का यह कर्त्तव्य है, कि वह टीम में अनुशासन लेकर आए और एक सीनियर होने के नाते खिलाड़ियों को उनकी राय का सम्मान करना चाहिए’.

Related Stories

No stories found.