Sreesanth Retirement: विश्व चैंपियन टीम का हिस्सा रहे इस तेज़ गेंदबाज़ का खत्म हुआ करियर

Sreesanth Retirement: विश्व चैंपियन टीम का हिस्सा रहे इस तेज़ गेंदबाज़ का खत्म हुआ करियर

भारतीय टीम के पूर्व गेंदबाज़ S. Sreesanth ने बीते बुधवार को 39 साल की उम्र में, भारतीय घरेलू क्रिकेट के सभी प्रारूपों से सन्यास ले लिया है. इस दाएं हाथ के तेज़ गेंदबाज़ ने भारत के लिए आखिरी मुकाबला साल 2011 में खेला था. वहीं 2 बार भारत की विश्व चैंपियन टीम का हिस्सा रह चूके Sreesanth, पिछले महीने मेघालय के खिलाफ रणजी ट्रॉफी मुकाबले में केरल की ओर से खेलते नज़र आए थे.

रणजी ट्रॉफी मुकाबले में केरल की ओर से Sreesanth 2 विकेट अपने नाम किए थे, जिसकी बदौलत केरल की टीम वो मैच 166 रनों से जीत गई थी. बुधवार को Sreesanth ने ट्वीट करते हुए घरेलू क्रिकेट के सभी प्रारूपों से सन्यास लेने की घोषणा की. अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा, कि “अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) मेरे लिए एक शानदार सम्मान रहा है. एक क्रिकेट खिलाड़ी और अपने 25 साल के करियर के रूप में मैंने कई कामयाबियां देखीं और कई क्रिकेट मुकाबले जीते. उच्चतम स्तर के मुकाबलों के लिए, मैनें जुनून और दृढ़ता के साथ तैयारी और ट्रेनिंग की. इसके साथ ही, अपने परिवार का प्रतिनिधित्व करना मेरे लिए काफी सम्मान की बात रही.”

Sreesanth ने एक और ट्वीट करते हुए लिखा, कि “अपने परिवार, अपनी टीम के साथी खिलाड़ियों, भारत के लोगों और हर उस शख्स का, जो इस खेल को प्यार करता है, उसका प्रतिनिधित्व करना मेरे लिए सम्मान की बात है. मैं बहुत ही दुख, लेकिन बिना किसी शिकवे के साथ भारी दिल से यह कहना चाहता हूं, कि मैं भारतीय घरेलू क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले रहा हूं.”

Sreesanth के घरेलू क्रिकेट से सन्यास लेने के बाद, भारत के पूर्व क्रिकेटर सुरेश रैना ने भारतीय क्रिकेट में दिए योगदान के लिए उन्हें धन्यवाद दिया. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, कि “शुक्रिया Sreesanth भाई क्रिकेट के सभी शानदार पलों के लिए. आपने पूरे जोश के साथ क्रिकेट खेला और युवा पीढ़ी के लिए एक विरासत छोड़ी. आपके आगे के जीवन के लिए मेरी शुभकामनाएं.”

विवादों से भरा श्रीसंत का क्रिकेट करियर

साल 2008 के पहले इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) सीज़न में, Sreesanth के करियर में पहला विवाद जुड़ा. दरअसल, पहले सीज़न में मुंबई इंडियंस और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच मुकाबले के बाद, मुंबई इंडियंस के तत्कालीन कप्तान हरभजन सिंह (भज्जी) ने उन्हें थप्पड़ मार दिया था. यह घटना तब हुई, जब मुकाबले के बाद सभी खिलाड़ी एक दूसरे से हाथ मिला रहे थे.

इस पूरे विवाद पर भज्जी का यह कहना था, कि उस वक्त वह श्रीसंत की प्रतिक्रिया देखकर खुद को काबू नहीं कर पाए और उन्होंने श्रीसंत को थप्पड़ मार दिया. मगर Sreesanth के करियर का सबसे बड़ा विवाद आईपीएल के 6वें सीज़न में हुआ. उस दौरान, उनपर स्पॉट फिक्सिंग के गंभीर आरोप लगे थे, जिसके बाद उन्हें भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा आजीवन बैन कर दिया गया था.

इसके कुछ समय बाद, सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई को Sreesanth पर लगे बैन पर दोबारा विचार करने का आदेश दिया था. बीसीसीआई ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर श्रीसंत पर लगे आजीवन बैन को 7 साल का कर दिया था. इसके बाद भी Sreesanth का नाम कई और विवादों से जुड़ता रहा. केरल क्रिकेट एसोसिएशन ने भी Sreesanth द्वारा कोड ऑफ कंडक्ट का पालन न करने की वजह से, उन्हें एक बार चेतावनी जारी की थी.

आपको बता दें, कि Sreesanth का बैन 13 सितंबर 2020 को खत्म हुआ था, जिसके बाद वह घरेलू क्रिकेट खेल रहे थे. गौरतलब है, कि Sreesanth ने अपने करियर में 74 फर्स्ट क्लास मुकाबले, 92 लिस्ट ए और 62 टी20 मुकाबले खेले हैं. वहीं भारतीय़ टीम के लिए भी Sreesanth ने 27 टेस्ट, 53 वनडे और और 10 टी20 मुकाबले खेल चुके हैं.

Related Stories

No stories found.