BGMI and Free Fire Ban: क्या भारत में फिर एक बार बैन होंगे बैटल रॉयल मोबाइल गेम?

BGMI and Free Fire Ban: क्या भारत में फिर एक बार बैन होंगे बैटल रॉयल मोबाइल गेम?

BGMI के भारत में रिलीज़ होने से पहले ही कई अलग-अलग सांसदों ने प्रधानमंत्री मोदी को चिट्ठी लिखकर इसे बैन करने का आग्रह किया था. कुछ लोगों ने BGMI और Free Fire जैसे बैटल रॉयल खेलों के लिए देश में सख्त कानून बनाने की मांग भी की थी. हालांकि इन दिनों, दोनों खेलों की लोकप्रियता भारत में बढ़ती जा रही है. ऐसा लग रहा था कि इनके बैन के बारे में अब कोई बात नहीं होगी. लेकिन भारतीय जज Naresh Kumar Laka ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर एक बार फिर से मामले को हवा में उछाल दिया है. जानिए क्या लिखा है Naresh Kumar Laka द्वारा प्रधानमंत्री को लिखी गई चिट्ठी में.

BGMI और Free Fire का बच्चों पर पड़ रहा है बुरा असर

Naresh Kumar Laka का कहना है कि ऐसे खेलों से बच्चे हिंसात्मक होते जा रहे हैं. उनके सामाजिक व्यवहार पर भी गहरा असर हो रहा है. चिट्ठी में यह भी कहा गया है कि ऐसे खेलों को बच्चे दिन में कई घंटे खेलते हैं. इतने घंटे खेलने में बरबाद करने के कारण उनकी दिनचर्या पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो जाती है. उन्होंने इस बात पर भी प्रकाश डाला की पिछले साल जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने PUBG को बैन किया था, तब पूरा देश इस फैसले से खुश था. मगर अब PUBG जैसे ही प्रभाव BGMI और Free Fire के द्वारा बच्चों के प्रवृत्ति पर हो रहा है.

मीडिया सूत्रों के मुताबिक, उन्होंने ऐसे कानून की मांग की है, जिससे देश में ऐसे खेलों के विनाशकारी प्रभाव को रोका जा सके. यह तो आपको ज्ञात होगा ही कि, पिछले साल जब भारत और चीन के बीच में गलवान घाटी पर सीमा विवाद बढ़ने लगा था, तब भारत सरकार ने कई सारे चीनी ऐप्स को असुरक्षा और डेटा लीक करने के चलते बैन किया था. बैन किए गए ऐप्स में Tik Tok और PUBG जैसे मशहूर नाम भी शामिल थे. BGMI की निर्माता कंपनी Krafton ने भारत में PUBG के देसी वर्जन BGMI को लॉंच करके भरोसा दिलाया था कि इसका किसी चीनी कंपनी से कोई नाता नहीं है.इसके लिए सुरक्षा के पैमाने को भी बढ़ाया गया. साथ ही कुछ ऐसे ज़रूरी बदलाव को भी लाया गया, जिससे बच्चों में विनाशकारी प्रवृत्ति कम हो. गौरतलब है कि, अब BGMI के साथ-साथ Free Fire भी लोगों के द्वारा बैन करने की मांग में शामिल हो गया है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com