BGMI: लकी स्पिन इवेंट दिला रहा है आकर्षक इनाम, अभी करें स्पिन

BGMI: लकी स्पिन इवेंट दिला रहा है आकर्षक इनाम, अभी करें स्पिन
The PlayerUnknown's Battlegrounds (PUBG) video game is arranged on a smartphone in Seoul, South Korea, on June 15, 2021. Krafton Inc., the company behind the hit mobile game PUBG, filed to raise as much as 5.6 trillion won ($5 billion) in a South Korean initial public offering that is set to be the countrys largest ever. Photographer: SeongJoon Cho/Bloomberg via Getty Images

BGMI की पॉपुलैरिटी से कोई भी गेमर आज अनजान नहीं है. गेम के मात्र तीन महीनों से कम समय में 60 मिलियन के करीब डाउनलोड पूरे हो चुके हैं. गेम प्ले स्टोर पर सबसे अधिक लोकप्रिय खेलों में भी रैंक करता है. गेम के यूजर्स बढ़ने का एक बड़ा कारण गेम में लगातार होने वाले इवेंट हैं. जहां गेम के कुछ इवेंट खिलाड़ियों के खेलने की प्रतिभा पर आधारित होते हैं. तो वहीं बहुत सारे इवेंट खिलाड़ियों के लक पर भी आधारित होते हैं. जिससे कि नए और कम अनुभव वाले खिलाड़ी भी इन इवेंट्स के जरिए रिवार्ड पा सकते हैं.

इसी क्रम में BGMI में एक और इवेंट सामने आया है. लकी स्पिन नाम के इस इवेंट में खिलाड़ियों को गेम में उपस्थित कई आकर्षक हथियार को जीतने का अवसर मिलेगा. इवेंट के बारे में और जानकारी दें तो यह इवेंट 21 सितंबर से शुरू हो चुका है. और यह 11 अक्टूबर तक जारी रहने वाला है.

गेम के इवेंट सेक्शन में इस लकी स्पिन में मिले मौके को खिलाड़ी इस्तेमाल कर अपनी किस्मत आजमा सकते हैं. स्पिन के जरिए लकी खिलाड़ी बेहतरीन हथियार, हेलमेट, एनर्जी ड्रिंक, गन स्किन, बैग पैक इत्यादि जीत सकते हैं. हथियारों में देखें तो टेक्नो M416 जैसी बेहतरीन गन भी खिलाड़ी जीत पाएंगे. खिलाड़ियों को स्पिन पाने के लिए एक दिन में 10 UC खर्च करने होंगे. और ड्रॉ स्पिन के लिए उन्हें 540 UC खर्च करने पड़ेंगे. हालांकि, लकी स्पिन में खिलाड़ियों को और कुछ नहीं मिलता है तो उन्हें टेक्नो केयर M4 16 मिलना तय है.

आपको बता दें कि BGMI की इन इवेंट्स के कारण पॉपुलैरिटी बहुत ही ज्यादा बढी है. इससे पहले PUBG में इवेंट इतने ज्यादा नही हुआ करते थे. BGMI के तीन महीनों में ही यूजर्स, भारत में PUBG के यूजर्स के लगभग बराबर पहुंच चुके हैं. इसी से ही इस गेम की पॉपुलैरिटी का अंदाजा लगाया जा सकता है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com