BGMI Accounts Banned: गैर कानूनी हरकतों के कारण हमेशा के लिए बैन किए गए 271,880 अकाउंट्स

BGMI Accounts Banned: गैर कानूनी हरकतों के कारण हमेशा के लिए बैन किए गए 271,880 अकाउंट्स

BGMI अब एप्पल की डिवाइस पर भी खेला जा सकता है. इस बैटल रॉयल मोबाइल गेम को भारत में अपार सफलता और प्रशंसकों का प्यार मिल रहा है. आने वाले दिनों में जल्द ही BGMI का पहला ओपन टूर्नामेंट भी आयोजित होगा. प्रशंसकों के प्यार और सहयोग के बीच एक और चीज का सामना करना पड़ता है, वह है हैकर्स का.

BGMI के कई खिलाड़ी भी इस बात की रिपोर्ट करते रहे हैं, की हैकर्स थर्ड पार्टी सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके गेम में गलत तरीके से बढ़त बनाने की कोशिश करते हैं. इसलिए Krafton एक एंटी चीट सिस्टम लाया है, जिसकी मदद से डेवलपर्स पिछले कुछ सप्ताह से गैर कानूनी अकाउंट्स पर हमेशा के लिए प्रतिबंध लगा रहे हैं. अच्छी बात यह है कि अब बैनिंग की यह प्रक्रिया रियल टाइम गेम में चालू हो गई है. अब तक Krafton ने दो बार ऐसे अकाउंट को बैन करने की रिपोर्ट को जारी किया है. पर तीसरी बार यानी कि अब जिस रिपोर्ट को जारी किया गया है, उसके अनुसार पिछले दोनों बार से 33% अधिक अकाउंट BGMI में हमेशा के लिए बंद कर दिए गए हैं. साफ तौर पर जाहिर है कि कंपनी गलत हथकंडे अपनाने वालों के खिलाफ कोई भी रहम नहीं दिखाने वाली है.

BGMI में हुए दो लाख से अधिक अकाउंट हमेशा के लिए बंद

13 अगस्त से 19 अगस्त, यानी कि पिछले सप्ताह की रिपोर्ट के अनुसार डेवलपर्स ने कुल मिलाकर 271,880 अकाउंट्स पर हमेशा की खातिर प्रतिबंध लगा दिया है. पिछली रिपोर्ट से यह लगभग 33% अधिक संख्या है. यह भी देखा जा रहा है कि कुछ दिन पहले BGMI को iOS डिवाइस के लिए लांच किया गया था, इसलिए कंपनी अपने एंटी चीट सिस्टम को और मजबूत कर रही है, ताकि खेल का बेहतर अनुभव मिल सके.

सबसे बड़ी बात है कि आने वाले दिनों में Battlegrounds Mobile India Series 2021 को आयोजित किया जाना है, जहां एक करोड़ का शानदार प्राइज पुल भी रखा गया है. ऐसे में कंपनी और डेवलपर्स दोनों चाहते होंगे कि उस टूर्नामेंट में किसी भी प्रकार का गलत तरीका ना इस्तेमाल किया जाए. ऐसा करने से प्रतिस्पर्धा मैच में धोखाधड़ी कम होगा, और सभी खिलाड़ियों को जीतने का बराबर मौका मिलेगा.

यह भी पढ़ें: BGMI News: खेल में हुआ एक नया अवतार लॉन्च, जानिये कैसे पाएं नए Poseidon X-Suit को

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com