Birbhum Massacre Latest Updates: हिंसा प्रभावित क्षेत्र का दौरा करेंगी ममता बनर्जी

Birbhum Massacre Latest Updates: हिंसा प्रभावित क्षेत्र का दौरा करेंगी ममता बनर्जी

बीरभूम (Birbhum) में घटी दर्दनाक घटना ने पश्चिम बंगाल की राजनीति गर्मा दी है. गौरतलब है, कि बीरभूम में हिंसक भीड़ द्वारा दर्जनों घरों में आगजनी के बाद, 10 लोग जिंदा जला दिए गए थे. वहीं, अब सभी राजनीतिक दल इस घटना को लेकर पश्चिम बंगाल सरकार पर जमकर निशाना साध रहे हैं. इसी बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) भी, आज घटनास्थल का दौरा करेगी.

हालांकि, उन्होंने बुधवार 23 मार्च को घटनास्थल पर पहुंचने की योजना बनाई थी, लेकिन विपक्षी दलों के वहां मौजूद होने के कारण उन्होंने इस दौरे को रद्द कर दिया. उन्होंने कहा था, कि 'मैं कल बीरभूम में घटनास्थल पर जा रही हूं. मैंने आज ही वहां जाने की योजना बनाई थी, लेकिन कुछ दलों के नेता वहां पहुंचकर मिठाई खा रहे हैं. उनके वहां मौजूद होने के कारण, मैं वहां नहीं जाना चाहती."

Birbhum पहुचेंगे राजनीतिक दलों के कई नेता

ममता बनर्जी के अलावा, कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chowdhury) और भाजपा नेताओं का प्रतिनिधिमंडल भी आज बीरभूम घटनास्थल पर पहुंचेगा. आपको बता दें, कि बीरभूम में हिंसक आगजनी के बाद विपक्षी दलों ने बंगाल सरकार को निशाने पर लिया हुआ है. यही नहीं, कई राजनीतिक दलों ने तो ममता बनर्जी से इस्तीफे की मांग भी की है. वहीं, अधीर रंजन चौधरी ने राष्ट्रपति को एक खत लिखकर, पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांगी रखी है.

उच्च न्यायालय में राज्य सरकार दाखिल करेगी स्टेट्स रिपोर्ट

कोलकाता उच्च न्यायालय ने बीरभूम में हिंसक आगजनी के मामले को स्वयं संज्ञान में लिया है. उच्च न्यायालय ने बुधवार को राज्य सरकार को कहा था, कि "इस मामले में चश्मदीद लोगों और पीड़ित परिवार को सुरक्षा देने की ज़रूरत है. इसके साथ ही, घटनास्थल की 24 घंटे सीसीटीवी कैमरे से निगरानी की जाए, ताकि सबूतों से छेड़छाड़ ना हो." इसके अलावा, उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार को गुरुवार 2 बजे तक घटना की रिपोर्ट जमा कराने का निर्देश दिया था. ऐसे में आज इस मामले को लेकर राज्य सरकार, उच्च न्यायालय में अपनी स्टेट्स रिपोर्ट जमा करवा सकती है.

22 आरोपी गिरफ्तार, जांच के लिए SIT गठित

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि बीरभूम में हिंसक घटना के बाद पुलिस ने अभी तक 22 लोगों को हिरासत में लिया है. सरकार ने इस मामले की जांच के लिए, SIT टीम का गठन किया है. वहीं मामले की जांच कर रहे एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया है, कि "अब तक 22 लोगों को हिरासत में लिया गया और उन सभी आरोपियों से, कड़ी पूछताछ की जा रही है. साथ में यह भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है, कि क्या इस घटना में और भी आरोपी शामिल थे."

Related Stories

No stories found.