World War 3 News: Russia Ukraine Crisis में क्या अगला पड़ाव होगा परमाणु युद्ध?

World War 3 News: Russia Ukraine Crisis में क्या अगला पड़ाव होगा परमाणु युद्ध?

Russia Ukraine Crisis को लगातार 7 दिन बीत चुके हैं. दोनों देशों में से कोई भी पीछे हटने को तैयार नहीं है. कोई भी देश इस मुद्दे में अपनी दखल अंदाजी नहीं दिखा सकता, क्योंकि रूस के राष्ट्रपति Vladimir Putin ने सभी देशों को इस मामले में दखलंदाजी न करने की सख्त हिदायत दी है. इसको देख कोई भी इस मामले में अपनी टांग नहीं अड़ाना चाहता है. लेकिन यूक्रेन और रूस से आ रही तस्वीरें और खबरें, सबके मन में World War 3 की आशंका जरूर पैदा कर रही है. ऊपर से रूस के विदेश मंत्री Sergei Lavrov का बयान, "अगर तीसरा विश्व युद्ध होता है, तो इसमें परमाणु हथियार शामिल होंगे और यह विनाशकारी होगा" ने सबको असमंजस की स्थिति में डाल दिया है.

यूक्रेन पर अपना आक्रमण शुरू करने के एक हफ्ते बाद, रूस ने कहा कि उसकी सेना ने बुधवार को पहले बड़े शहर, दक्षिण में खेरसॉन पर कब्जा कर लिया है. इस सब के बीच, अमेरिकी राष्ट्रपति Joe Biden ने रूस पर प्रतिबंधों को और तेज कर दिया है. अमेरिकी हवाई क्षेत्र से रूसी विमानों पर प्रतिबंध लगाने में यूरोपीय संघ और कनाडा भी शामिल हो गए हैं. Joe Biden की तरफ़ से बयान भी आया है, कि न्याय विभाग Vladimir Putin के साथ संबंध रखने वाले रूसियों के नौकाओं, लग्जरी अपार्टमेंट और निजी जेट विमानों को जब्त करने की कोशिश करेगा.

अब इन सब के बीच, सभी राजनीतिक शक्तियों का World War 3 शुरू होने का अंदाजा लगाना गलत नहीं है. क्योंकि अगर हथियारों की बात करें, तो रूस इस मामले में महाशक्ति है.अगर युद्ध नहीं थमा, तो रूस अपने बेहतरीन हथियारों का इस्तेमाल करने से पीछे नहीं हटेगा.

अगर बात करें रूस के पास मौजूद हथियारों की तो रूस के पास सबसे खतरनाक Vacuum बम है, जिसे Father of all Bomb के नाम से भी जाना जाता है. यह बम वातावरण में मौजूद ऑक्सीजन को सोख कर जमीन पर एक जोरदार धमाका करता है. इस धमाके में बहुत सी एनर्जी के साथ ताप पैदा होता है. यह ताप इतना ज्यादा गर्म होता है, कि मानव शरीर और शहर को मलबे में तब्दील कर सकता है. रूस में इसे ATBIP, यानी एविएशन थर्मोबेरिक बम ऑफ इन्क्रीज्ड पावर कहा जाता है.

इसके बाद रूस के पास MOAB मौजूद है. अमेरिका इसे Mother of all Bomb भी कहता है. इसे GBU 43 भी कहते हैं. ये बम 11 टन TNT ताकत का धमाका करता है. यह बम इतना घातक है की अपने इर्द गिर्द 300 km विध्वंस मचा सकता है. इस बम का इस्तेमाल पहली बार अमेरिका ने वर्ष 2017 में ISIS के ठिकानों को ध्वस्त करने के लिए किया था.

इस के बाद रूस के पास MOP यानी Massive Ordinance Penetrator है. इस बम को GBU -57A के नाम से भी जाना जाता है. इसे विश्व के सबसे बड़े गैर परमाणु बमों की श्रेणी में रखा गया है. अगर यह बम जमीन पर फटे तो जमीन के नीचे भी 60 किलोमीटर तक धमाका कर सकता है.

अगर गैर परमाणु हथियारों की बात करें, तो रूस के पास GBU -28 भी मौजूद है. इस बम का इस्तेमाल वर्ष 1991 में अमेरिकी सेना ने इराक के खिलाफ किया था.

इसके बाद रूस के बाद SPICE (Smart, Precise Impact, Cost-Effective) बम भी मौजूद है. यह बम मेड इन इजरायल है. यह बम Satellite Guidance और electro-optical सेंसर की मदद से चलता है. पहली बार इस बम का इस्तेमाल भारत ने फरवरी 2019 में बालाकोट एयर स्ट्राइक के दौरान किया था.

इन सबके बाद यह अंदाजा लगाना काफी आसान होगा, कि अगर परमाणु युद्ध छिड़ता है और World War 3 शुरू होती है, तो इस धरती का क्या हाल होगा.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com