Russia Ukraine Conflict: ये हथियार लाएंगे तबाही, भारत पर क्या पड़ेगा असर ?

Russia Ukraine Conflict: ये हथियार लाएंगे तबाही, भारत पर क्या पड़ेगा असर ?

Russia और Ukraine के बीच युद्ध के चलते अब परमाणु हथियारों का जिक्र भी होने लगा है. दरअसल, Russia ने Ukraine से हथियार डालने को कहा है, जबकि यूक्रेनी सेना अपने स्वाभिमान के लिए अभी भी लड़ रही है. ऐसे में यह आशंका जताई जा रही है, कि रूस इस युद्ध में परमाणु बम का इस्तेमाल कर सकता है. तो आइए सबसे पहले जानते हैं, क्या होते हैं परमाणु बम ?

परमाणु बम

परमाणु बम, मानव द्वारा निर्मित सबसे खतरनाक हथियारों में से एक है. 1945 में दूसरे विश्व युद्ध के दौरान, दुनिया को इसकी ताकत का अंदाजा लगा था. दरअसल, दूसरे विश्व युद्ध के दौरान अमेरिका ने जापान के दो शहर, हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराए थे. जिसकी तबाही का खौफनाक मंज़र आज भी देखने को मिलता है. ये हथियार इतने खतरनाक होते हैं, कि एक परमाणु के इस्तेमाल से लाखों लोगों की जानें जा सकती है.

विज्ञान की भाषा में कहें, तो इसके इस्तेमाल के दौरान यूरेनियम या प्लूटोनियम का परमाणु विखंडन होता है. इस विखंडन से भारी मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न होती है, जो काफी खतरनाक है.

दुनिया में इन देशों के पास है, परमाणु बमों का जखीरा

मौजूदा समय में दुनिया के नौ देशों के पास परमाणु हथियारों का जखीरा है. इनमें अमेरिका, रूस, फ्रांस, चीन, ब्रिटेन, भारत, पाकिस्तान, इजरायल और उत्तर कोरिया शामिल है

Russia और Ukraine ने इस तरह दिखाई अपनी सैन्य ताकत

Russia और Ukraine के बीच युद्ध में दोनों देशों ने सैन्य ताकत झोंक दी है. हालांकि, इस युद्ध में रूस एकतरफा भारी पड़ता दिखाई दे रहा है. दरअसल, रूस ने सबसे पहले बैलिस्टिक मिसाइलों के जरिए Ukraine पर हमला किया. रूस ने बेरालुस और अन्य पड़ोसी देशों की सहायता से चौतरफा हमला किया है. रूस ने Ukraine के सैन्य ठिकानों को ढूंढ-ढूंढ कर निशाना बनाया, ताकि उनकी ताकत को कमजोर किया जा सके.

वहीं, Ukraine ने इस युद्ध में अपनी पूरी सैन्य ताकत झोंक दी है. हालांकि, ये देश सिर्फ़ अपनी थल सेना का ही इस्तेमाल कर पाया है. हवाई हमलों से रूस ने इस देश को काफी नुकसान पहुंचाया है.

Russia Ukraine विवाद का भारत पर क्या असर पड़ेगा

Russia और Ukraine के बीच चल रहे युद्ध का असर पूरे विश्व में देखने को मिलेगा. पूरा विश्व जहां इस युद्ध को रोकने की कोशिश कर रहा है, वहीं रूस अपनी बात पर अड़ा हुआ है. ऐसे में दुनिया के कई देशों ने रूस पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है. लेकिन इसका खामियाजा सिर्फ़ रूस को ही नहीं, बल्कि पूरे विश्व को भी भुगतना होगा.

दरअसल, रूस पर कई तरह के प्रतिबंध लगने के साथ ही कच्चे तेल और गैस की कीमतों में भारी उछाल देखने को मिलेगा. इसके अलावा सोने और चांदी के भावों में भी तेजी आएगी. इसके अलावा भारत और रूस के बीच पेमेंट सिस्टम और कई तरह के सैन्य समझौते भी हैं, जिस पर सीधा असर देखा जा सकता है. वहीं, इस युद्ध से चीन और रूस एक दूसरे के करीब आ सकते हैं, जो भारत के लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है.

शांति ही एकमात्र समझौता

Russia और Ukraine के बीच युद्ध का एकमात्र हल सिर्फ शांति समझौता है, ये भारत का मानना है. दरअसल, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की बैठक में रूस के खिलाफ निंदा प्रस्ताव की वोटिंग का भारत ने बॉयकॉट किया है. भारत का कहना है, कि इस युद्ध को शांति और बातचीत के जरिए सुलझाया जा सकता है. भारत का यह कथन भी बिलकुल सही है, क्योंकि दुनिया में जितने भी युद्ध हुए उनका अंजाम बहुत बुरा हुआ है. ऐसे में सिर्फ शांति से बातचीत ही एकमात्र सही समझौता है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com