Russia-Ukraine War Updates: होने वाली है शांति वार्ता, लेकिन तनाव फिर भी जारी

Russia-Ukraine War Updates: होने वाली है शांति वार्ता, लेकिन तनाव फिर भी जारी

रूस-यूक्रेन युद्ध (Russian-Ukraine War) को छिड़े हुए अब एक महीने से भी ऊपर हो चुका है. जाहिर है, कि द्वितीय विश्व युद्ध के खत्म होने के बाद से विश्व में जो शांति का माहौल था, वह अब नहीं है. इस युद्ध के चलते पूरे विश्व में हाहाकार मचा हुआ है. इस सबके बाद, इस सप्ताह दोनों देशों के बीच होने वाली शांति वार्ता (Peace Talk) ही एक उम्मीद की किरण है. इसके बावजूद भी, दोनों देशों के बीच तनाव अभी तक जारी है.

आपको बता दें, यूक्रेन के एक शहर रिव्ने के क्षेत्रीय गवर्नर का कहना है, कि "सोमवार देर रात पश्चिमी यूक्रेन में एक तेल डिपो पर मिसाइल हमला हुआ. यह इस क्षेत्र में तेल सुविधाओं पर दूसरा हमला और हाल के दिनों में इस तरह के हमलों में नया था". यूँ तो, दोनों देशों के बीच पिछले एक महीने में कई बार वार्ता हुई है. लेकिन, किसी भी वार्ता से नतीजा निकल कर नहीं आ रहा है.

आज भी दोनों देशों के बीच तुर्की में शांति वार्ता होनी तय है. मगर रूस ने अभी भी यूक्रेन पर हमला करना नहीं रोका है. गौरतलब है, कि रूस-यूक्रेन युद्ध में रूस बमबारी और तोपों के जरिए शहरों को ढ़हा रहा है. कहीं निर्दोष नागरिक मौत के मुँह में जा रहे हैं, तो कहीं जो जिन्दा हैं वो भूख से बिलख रहे हैं. मगर तब भी, रूसी सेना का कहना है, कि "अब वह पूर्वी यूक्रेन पर ध्यान केंद्रित करना शुरू कर देगी." यही कारण है कि एक बार फिर से शांति वार्ता आयोजित की गई है.

आपको बता दें, कि विश्लेषकों का कहना है, कि "द्वितीय विश्व युद्ध के बाद, रूस-यूक्रेन युद्ध सबसे बड़ा यूरोपीय संघर्ष है." यूएस अधिकृतों के अनुसार, "रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) अभी भी युद्ध खत्म करने को तैयार नहीं लग रहे हैं". इसी बीच, यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की का कहना है, कि "यूक्रेनी सेना ने राजधानी कीव के बाहर एक प्रमुख शहर इरपिन को वापस ले लिया है."

वहीं, दूसरी तरफ, यूक्रेन के विदेश मंत्री Dmytro Kuleba ने एक ट्वीट में कहा है, कि "मैं सभी राज्यों से आह्वान करता हूँ, कि यूक्रेन के खिलाफ रूस की आक्रामकता के युद्ध का सार्वजनिक रूप से समर्थन करने के तरीके के रूप में 'जेड' (Z) प्रतीक के उपयोग को अपराध घोषित करें. 'Z' का अर्थ रूसी युद्ध अपराध, शहरों पर बमबारी, हजारों मारे गए यूक्रेनियन है. इस बर्बरता के जन समर्थन को प्रतिबंधित किया जाना चाहिए."

अभी तक भी युद्ध क्यों जारी है?

जाहिर है, कि दोनों देशों के बीच अभी तक तनाव जारी है. ऐसा इसलिए, क्योंकि रूस-यूक्रेन युद्ध के जरिए रूस एक गारंटी चाहता है. बिल्कुल साफ गारंटी, कि भविष्य में भी यूक्रेन नाटो या यूरोपीय संघ का सदस्य बनने के लिए न जाए. इसे दूसरी तरह से कहें, तो यूक्रेन किसी अन्य संघ का हिस्सा न बने.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com