CBSE Syllabus Controversy: नए पाठ्यक्रम को लेकर राहुल गांधी ने कसा तंज

CBSE Syllabus Controversy: नए पाठ्यक्रम को लेकर राहुल गांधी ने कसा तंज

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) द्वारा कक्षा 10वीं से 12वीं के पाठ्यक्रम में बदलाव को लेकर राजनीति गरमा गई है. बोर्ड के इस फैसले को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) पर निशाना साधा है. साथ ही, उन्होंने CBSE को भी सेंट्रल बोर्ड ऑफ सप्रेसिंग एजुकेशन बताते हुए तंज कसा है.

राहुल गांधी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए तंज कसा है. राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा, कि "राष्ट्रीय शिक्षा श्रेडर". साथ ही, उन्होंने एक तस्वीर भी साझा की है. तस्वीर में एक मशीन है, जो लोकतंत्र और विविधता, कृषि पर वैश्वीकरण के प्रभाव और फैज की कविताओं जैसे कई मुद्दों को काट रही है. साथ ही, यह मशीन रोजगार, साम्प्रदायिक सौहार्द और संस्थाओं की आजादी जैसे मुद्दों को पहले ही टुकड़े-टुकड़े कर चुकी है.

इतिहास और राजनीति विज्ञान के पाठ्यक्रम में CBSE ने किया बदलाव

कांग्रेस नेता राहुल गांधी की यह प्रतिक्रिया CBSE की ओर से कक्षा 11वीं और 12वीं के पाठ्यक्रम में किए गए बदलाव के बाद आई है. आपको बता दें, कि CBSE ने 11वीं और 12वीं कक्षा से इतिहास और राजनीति विज्ञान के पाठ्यक्रम में से कई लेसन हटा दिए हैं. जिनमें गुटनिरपेक्ष आंदोलन, कोल्ड वॉर टाइम, अफ्रीकी-एशियाई क्षेत्रों में इस्लामी साम्राज्यों का उदय, मुगल दरबार और औद्योगिक क्रांति का इतिहास शामिल है.

विद्यार्थी अब नहीं पढ़ेंगे फैज की नज्में

11वीं और 12वीं के पाठ्यक्रम में बदलाव के अलावा, 10वीं में भी एग्रीकल्चर पर ग्लोबलाइजेशन का असर विषय हटा दिया गया है. साथ ही 'धर्म, सांप्रदायिकता और धर्मनिरपेक्ष राज्य' कॉलम में फैज अहमद की उर्दू की दो कविताओं के अनुवादित अंशों को भी बाहर कर दिया गया है. CBSE ने पाठ्यक्रम में से 'लोकतंत्र और विविधता' का चैप्टर भी हटा दिया है.

साथ ही आपको बता दें, कि इससे पहले भी कई बार राहुल गांधी ने RSS पर निशाना साधा है. 16 अप्रैल को उन्होंने ट्विटर पर भाजपा और RSS पर देश में नफरत फैलाने का आरोप लगाया था.

Related Stories

No stories found.