Narendra Modi Punjab Polls: जन संबोधन में कहा, “भाजपा के पास जनता का आशीर्वाद”

Narendra Modi Punjab Polls: जन संबोधन में  कहा, “भाजपा के पास जनता का आशीर्वाद”

प्रधानमंत्री Narendra Modi, आज चार दिन में तीसरी बार फिर पंजाब पहुंचे हैं. वह पंजाब के अबोहर में आयोजित जनसभा को संबोधित कर रहे थे. इस जनसभा के दौरान, प्रधानमंत्री ने पंजाब के किसानों को नई सोच देने वाली सरकार की बात की. उन्होंने अपने संबोधन में जनता की भलाई की बात करते हुए बेहतर फसल, कम लागत और बेहतर कीमत के मुद्दों को उठाया है.

संबोधन के दौरान पंजाब में प्रधानमंत्री ने दावा किया है, कि भारतीय जनता पार्टी पंजाब को डबल इंजन की सरकार देगी, जो आज के किसानों की जरूरत है. इस जनसभा के दौरान, प्रधानमंत्री Narendra Modi ने पिछली सरकारों पर जमकर हल्ला भी बोला. उन्होंने अपने भाषण में साफ़ तौर पर कहा है, कि "भाजपा आई तो माफियाओं की विदाई होना तय है. आप भाजपा को 5 साल तक सेवा करने का मौका जरूर दें."

प्रधानमंत्री Narendra Modi ने अपने संबोधन में यह भी कहा है, कि "हम चाहते हैं, कि गरीबों की तकलीफ़ दूर हो तथा उनका जीवन और रहन-सहन आसान बन सके. हमारे लिए गरीबों के लिए काम करना ही हमारी प्राथमिकता है. कोरोना काल के दौरान, भाजपा सरकार के द्वारा गरीबों को मुफ़्त राशन दिया गया था. इतना ही नहीं, गरीब और ज़रुरतमंदों के लिए मुफ़्त टीकाकरण भी मुहैया करवाई गई है. अगर पंजाब में पारदर्शी सरकार आती है, तो पंजाब का इंफ्रास्ट्रक्चर पहले से बेहतर होगा. हम वादा करते हैं, कि पंजाब में उद्योग बढ़ाए जाएंगे, जिसके कारण नौजवानों को अपना गांव छोड़कर बाहर काम करने के लिए नहीं जाना पड़ेगा.”

प्रधानमंत्री Narendra Modi ने अपने भाषण में स्वामीनाथन आयोग की बात भी की. उन्होंने कहा है, कि “कांग्रेस सरकार हमेशा से किसानों के साथ धोखा करती आई है. स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के लिए जो समय लिया गया, वह बहुत ज्यादा था. वह हमेशा से झूठ बोल रहे हैं. हमारी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने का काम किया है. वहीं भाजपा के पास जनता का आशीर्वाद भी है."

प्रधानमंत्री Narendra Modi के भाषण से पहले, इस जनसभा में स्थानीय नेताओं द्वारा संबोधन दिया गया था. इसमें फाजिल्का से भाजपा के पूर्व मंत्री, सुरजीत भी मंच पर आए थे. वहीं केंद्रीय मंत्री, हरदीप सिंह पुरी भी इस रैली में शामिल हुए थे.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com