Karnataka Hijab Row: उत्तर प्रदेश तक पहुंचा विवाद, कॉलेज ने लगाया इन पर प्रतिबंध

Karnataka Hijab Row: उत्तर प्रदेश तक पहुंचा विवाद, कॉलेज ने लगाया इन पर प्रतिबंध

Karnataka के उडुपी से शुरू हआ हिजाब विवाद, अब उत्तर प्रदेश में भी फैलने लगा है. उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ के एक कॉलेज में हिजाब पहनने पर रोक लगा दी गई है. वहीं हिजाब और भगवा गमछे को लेकर चल रहे विवाद के बीच, कॉलेज प्रशासन ने छात्रों से ड्रेस कोड का अनुपालन करने को कहा है. इसी के मद्देनज़र, अलीगढ़ के डीएस कॉलेज की ओर से दिशानिर्देश भी जारी कर दिए गए हैं.

डीएस कॉलेज के प्राचार्य डॉ. राजकुमार वर्मा ने कहा है, कि “हम छात्रों को ढके हुए चेहरों के साथ प्रवेश की अनुमति नहीं देंगे. छात्रों को कॉलेज परिसर के अंदर, भगवा गमछा और हिजाब पहनने की अनुमति नहीं है.”

Karnataka का हिजाब विवाद चुनावी मैदान में भी खूब गरमाया हुआ है. आपको बता दें, कि Karnataka से शुरु हुए इस हिजाब विवाद पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने केंद्र की एनडीए सरकार पर करारा हमला किया था. उन्होंने कहा था, कि “लड़कियां क्या पहनना चाहती हैं, इस पर किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए.”

इसके अलावा, समाजवादी पार्टी के एक नेता ने हिजाब पर हाथ डालने वालों का हाथ काटने तक की धमकी दी थी. ऐसी स्थिति में अलीगढ़ के कॉलेज प्रशासन का भगवा गमछा और हिजाब पर रोक लगाने का आदेश, उतर प्रदेश के चुनावी माहौल को भी प्रभावित कर सकता है.

दूसरी ओर, Karnataka के हिजाब विवाद को लेकर, कर्नाटक हाईकोर्ट में नियमित रूप से सुनवाई जारी है. आपको बता दें, कि इस मामले में अंतिम फैसला आने तक हाईकोर्ट ने हिजाब, बुर्का, भगवा गमछे आदि धार्मिक वस्त्रों को पहनने पर पाबंदी लगाई थी. इसके बावजूद, राज्य के कई शिक्षण संस्थानों के बाहर से लगातार हिजाब के समर्थन में धरना प्रदर्शन जैसी घटनाएं सामने आ रही हैं. वहीं Karnataka के मुख्यमंत्री बसवराज एस बोम्मई ने छात्रों से हिजाब को लेकर, हाईकोर्ट के आदेश का पालन करने की अपील की और साथ ही सबको एकजुट रहने के लिए भी कहा.

हिजाब और भगवा गमछे का विवाद, Karnataka से तब उठा जब दिसंबर 2021 में उडुपी के एक कॉलेज में 6 लड़कियां हिजाब पहनकर आईं थी. इसी के जवाब में कुछ छात्र, भगवा गमछा पहन कर कॉलेज में पहुंच गए. इसके बाद से यह विवाद काफी बढ़ता गया.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com