Javed Akhtar on Hijab Row: गीतकार ने की निंदा, कहा ‘लड़कियों को डराना बेहद शर्मनाक’

Javed Akhtar on Hijab Row: गीतकार ने की निंदा, कहा ‘लड़कियों को डराना बेहद शर्मनाक’

कर्नाटक से शुरू हुआ हिजाब विवाद, अब बॉलीवुड तक पहुंच चुका गया है. बॉलीवुड के मशहूर गीतकार Javed Akhtar ने चुप्पी तोड़ते हुए बड़ा बयान दिया है. उन्होंने स्पष्ट किया है, कि वे हिजाब का बिल्कुल भी समर्थन नहीं करते हैं. लेकिन एक भीड़ द्वारा लड़कियों को घेरना और डराना धमकाना बेहद निंदनीय है. Javed Akhtar ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए यह लिखा है.

Javed Akhtar ने ट्वीट करते हुए लिखा, कि "मैं कभी बुर्का और हिजाब के समर्थन में नहीं था. मैं अभी भी अपने शब्दों पर कायम हूं, लेकिन इसके साथ ही मैं उन गुंडों की भी निंदा करता हूं, जो लड़कियों के छोटे समूह को डराने-धमकाने की कोशिश कर रहे हैं. क्या उनके हिसाब से यही मर्दानगी है, यह बेहद ही गंदी चीज़ है".

आपको बता दें, कि कर्नाटक के स्कूल-कॉलेजों में इन दिनों हिजाब पहनने को लेकर जमकर विवाद मचा हुआ है. इस मामले के बीच दो दिन पहले कर्नाटक के एक कॉलेज का वीडियो सामने आया था. जहां एक लड़की हिजाब पहनकर कॉलेज पहुंचती है, जिसके बाद छात्रों की भीड़ उस लड़की को देखकर जय श्री राम के नारे लगाती हैं. ये देखकर लड़की भी उनके सामने अल्ला हू अकबर के नारे लगाने लगती है. Javed Akhtar ने इसी को लेकर टिप्पणी की है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस भीड़ का सामना करने वाली लड़की का नाम मुस्कान खान है, Asaduddin Owaisi समेत कई नेताओं ने तारीफ की है.

आखिर क्या है हिजाब का पूरा मामला

हिजाब विवाद की शुरुआत कर्नाटक के उडुपी के एक कॉलेज से हुई थी. जहां कुछ लड़कियां हिजाब पहनकर कॉलेज पहुंची थी, जिन्हें कक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी गई, क्योंकि यह कॉलेज प्रशासन द्वारा बनाए गए यूनिफॉर्म के खिलाफ था. इसके बाद यह विवाद कई जिलों में फैल गया और छात्रों के एक गुट ने हिजाब के विरोध में भगवा स्कार्फ बांधकर स्कूल-कॉलेज जाना शुरू कर दिया.

इसके बाद इसको लेकर कर्नाटक उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की गई. जिस पर कल सुनवाई की गई थी, लेकिन इस पर अभी फैसला नहीं सुनाया गया. वहीं, अब इस मामले की सुनवाई कर्नाटक उच्च न्यायालय के लार्जर बेंच द्वारा की जाएगी. कर्नाटक सरकार ने भी विवाद को देखते हुए तीन दिन तक स्कूल कॉलेजों को बंद रखने का निर्णय लिया है.

Related Stories

No stories found.
logo
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com