अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी में जयराम रमेश ने उठाया बेरोज़गारी और किसानों का मुद्दा

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी में जयराम रमेश ने उठाया बेरोज़गारी और किसानों का मुद्दा

दिल्ली में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) मुख्यालय में मंगलवार को बोलते हुए, काँग्रेस (Congress) पार्टी के प्रवक्ता जयराम रमेश (Jairam Ramesh) ने कहा, कि भारत जोडो यात्रा (Bharat Jodo Yatra) के पिछले 48 दिनों के दौरान लगभग 50 अलग-अलग संगठनों ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से मुलाकात की है. उन सभी ने दस्तावेज़ों के साथ अपनी चिंता भी व्यक्त की है.

जयराम रमेश ने दावा किया, कि विभिन्न संगठनों द्वारा उठाई गई चिंता विशेष रूप से किसानों के मुद्दों, बेरोज़गारी, बंद हुए छोटे व्यवसायों से संबंधित मुद्दों और सेवा कर (GST) के कारण बढ़ी महंगाई को लेकर है. उन्होंने बताया, कि राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने अब तक 4 बड़ी सार्वजनिक रैलियों और लगभग 35 छोटी बैठकों में भाग लिया है. जयराम रमेश ने कहा, कि अब तक भारत जोडो यात्रा अभियान का एक तिहाई हिस्सा खत्म हो चुका है. इस गति से यह 20 फरवरी या उससे पहले कश्मीर (Kashmir) तक पहुंच जाएगा.

उन्होंने अपने संबोधन में कहा, कि “हम अब मध्य और उत्तर भारत के राज्यों की ओर बढ़ रहे हैं, जिन्हें अगले 50 दिनों में कवर कर लिया जाएगा. केरल, कर्नाटक और तेलंगाना की तुलना में हमारे पास संगठनात्मक ताकत नहीं है. आंध्र प्रदेश में जनता की भागीदारी को देखते हुए, जहां हमारा वोट शेयर मात्र 2% है, मुझे उम्मीद है, कि भारत जोड़ो यात्रा इन राज्यों में उत्साह पैदा करेगी.” जयराम रमेश ने यह भी बताया, कि 27 अक्टूबर को तेलंगाना के महबूबनगर में दोबारा एक पैदल मार्च निकाला जाएगा, जो महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश से होकर गुज़रेगा.

आपको बता दें, कि जयराम रमेश भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता हैं. वह राज्यसभा में कर्नाटक का प्रतिनिधित्व करने वाले संसद के सदस्य भी हैं. जुलाई 2011 में जयराम रमेश को भारत के केंद्रीय मंत्रिपरिषद में पदोन्नत किया गया था और ग्रामीण विकास मंत्री और नए पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय के मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था. हालांकि, अक्टूबर 2012 में हुई कैबिनेट फेरबदल में उन्हें पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय से हटा दिया गया.

Image Source

यह भी पढ़ें: Rishi Sunak: जानिए ब्रिटेन के अगले प्रधानमंत्री का क्या है भारतीय कनेक्शन

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com