विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा - “मैं सुझाव दूंगा, कि अपना ध्यान यूरोप पर केंद्रित करें"

विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा - “मैं सुझाव दूंगा, कि अपना ध्यान यूरोप पर केंद्रित करें"

भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर (S Jaishankar) ने सोमवार को एक कांफ्रेंस के दौरान, भारत-रूस संबंध पर बोलने वाले अनेकों देशों की बोलती चुटकियों में बंद कर दी. वहीं सबसे ख़ास बात यह है, कि भारत के विदेश मंत्री ने ऐसा बहुत ही शांत और दोस्तीपूर्ण अंदाज़ में किया है.

बात दरअसल यह थी, कि विदेश मंत्री जयशंकर 2+2 मंत्रिस्तरीय मीटिंग के बाद, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh), अमेरिकी विदेश मंत्री टोनी ब्लिंकन (Tony Blincon) और रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन (Lloyd Austin) के साथ, एक जॉइंट न्यूज़ कांफ्रेंस में थे. इस कांफ्रेंस में रिपोर्टर रोशलिंड जॉर्डन (Rosalind Jordan) ने पहले कुछ साधारण से सवाल किए. फिर उन्होंने राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री से भारत की रूस से तेल खरीद के बारे में सवाल पूछा. जिसके लिए, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने विदेश मंत्री जयशंकर से ही जवाब देने के लिए कहा था.

वहीं जवाब में विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने जो कहा, तो तुरंत ही रिपोर्टर की बोलती बंद हो गई. फ़िलहाल यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर शेयर हो रही है. इस वीडियो में देखा जा सकता है, कि भारत के विदेश मंत्री बड़े ही ख़ास अंदाज़ में उनसे भारत की रूस से तेल खरीद के बारे में पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे हैं.

गौरतलब है, कि विदेश मंत्री जयशंकर वीडियो में कह रहे हैं, कि "भारत की रूस से एक महीने में तेल की कुल खरीद संभवत: यूरोप की केवल एक दोपहर में खरीदे गए तेल की तुलना में कम है. मैंने देखा है, कि आप तेल खरीद का उल्लेख करते हैं. यदि आप रूस से ऊर्जा खरीद देख रहे हैं, तो मैं सुझाव दूंगा, कि आपका ध्यान यूरोप पर केंद्रित होना चाहिए. हम कुछ ऊर्जा खरीदते हैं, जो हमारी ऊर्जा सुरक्षा के लिए ज़रूरी है. लेकिन मुझे संदेह है, हमारी महीने की कुल खरीद के आंकड़े यूरोप की एक दोपहर की खरीद की तुलना में कम ही होंगे.”

करीब 1 मिनट और 20 सेकंड्स का यह वीडियो लोगों को इतना पसंद आया है, कि सोशल मीडिया का हर प्लेटफार्म इसी से भरा हुआ है. तो वहीं, अभी भी लोगों ने इसे शेयर करना बंद नहीं किया है. यहाँ तक, कि लोग इस वीडियो में विदेश मंत्री जयशंकर के अंदाज़ पर ढेरों मीम्स की नदियां भी बहा रहे हैं.

आपको बता दें, कि न्यूज़ रिपोर्टर ने विदेश मंत्री जयशंकर से भारत की रूस से तेल खरीद के बारे में सवाल पूछा था. ऐसा इसलिए, क्योंकि रूस-युक्रेन युद्ध में अमेरिका रूस के खिलाफ़ माना जाता है. ऐसे में सभी देश अमेरिका के साथ संबंध के चलते रूस से कुछ भी खरीदने से कतरा रहे हैं. वहीं, वैश्विक स्तर पर भी अमेरिका और अन्य शक्तिशाली देश बार-बार भारत-रूस संबंध को लेकर सवाल उठाते हैं.

गौरतलब है, कि अमेरिका अभी भी भारत की इस खरीददारी के खिलाफ़ है, जिसके चलते ये उम्मीद की जा रही है कि यह सवाल इस कारण ही सामने आया था.

Related Stories

No stories found.