कॉनमैन सुकेश चंद्रशेखर ने अरविंद केजरीवाल पर लगाया मानसिक प्रताड़ना का आरोप

कॉनमैन सुकेश चंद्रशेखर ने अरविंद केजरीवाल पर लगाया मानसिक प्रताड़ना का आरोप

ठग सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar) ने दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना (Vinay Kumar Saxena) को पत्र लिखकर आप प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) और दिल्ली के पूर्व मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) पर उन्हें धमकाने और मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है.

अपने नए पत्र में सुकेश चंद्रशेखर ने दावा किया है, कि आम आदमी पार्टी (AAP) नेता उन्हें परेशान कर रहे थे और उनके खिलाफ दायर मामलों को वापस लेने के लिए कह रहे थे. सुकेश ने आरोप लगाया, कि जेल में बंद आप सदस्य सत्येंद्र जैन ने उन्हें फोन किया और दोनों के खिलाफ दर्ज मामले वापस लेने और सबूत नष्ट करने के लिए 48 घंटे का समय दिया. उन्होंने यह भी लिखा, कि जेल अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा था.

अपने पत्र में सुकेश चंद्रशेखर ने कहा, कि 31 दिसंबर को जैन ने उन्हें जेल अधीक्षक राजकुमार के माध्यम से कर्नाटक चुनाव में एक सीट और पंजाब में एक खनन अनुबंध की पेशकश की. उन्होंने लिखा, कि जैन ने उन्हें सभी स्क्रीनशॉट, चैट और वॉयस रिकॉर्डिंग सौंपने और मीडिया और उच्च-स्तरीय समिति को दिए गए बयान वापस लेने के लिए कहा था. इसके साथ ही, जैन ने उन्हें दूसरी जेल में स्थानांतरित करने की धमकी भी दी. उन्होंने कहा कि जैन ने उन्हें बताया कि वह इतना प्रताड़ित किया जाएगा कि वह सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की तरह आत्महत्या करने पर मजबूर हो जाएंगे.

कुछ हफ्ते पहले ठग सुकेश ने दावा किया था, कि उसने आप को 60 करोड़ रुपये दिए थे. उनके वकील, एडवोकेट अनंत मलिक ने मीडिया को बताया, कि दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) में एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने सुकेश का बयान लिया और कहा, कि इसकी जांच की जानी चाहिए.

आपको बता दें, कि वर्तमान में सुकेश चंद्रशेखर हाई-प्रोफाइल लोगों और मशहूर हस्तियों से कथित रूप से पैसे ठगने के आरोप में दिल्ली की मंडोली जेल में बंद है. इससे पहले, उन्हें तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में रखा गया था, लेकिन बाद में मौत की धमकी का हवाला देते हुए बार-बार जेल बदलने के अनुरोध के बाद उन्हें स्थानांतरित कर दिया गया था.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com