कांग्रेस का केंद्र सरकार पर तंज, कहा “70000 नौकरियां ऊंट के मुंह में जीरा जैसी”

कांग्रेस का केंद्र सरकार पर तंज, कहा “70000 नौकरियां ऊंट के मुंह में जीरा जैसी”
Mint

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने शनिवार 22 अक्टूबर 2022 को रोजगार मेला (Rojgar Mela) की शुरुआत की है, जिसमें 75000 लोगों को नियुक्ति पत्र सौंपे जाने थे. ऐसे में, कांग्रेस (Congress) ने केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री पर तंज कसते हुए कहा, कि “यह ऊंट के मुंह में जीरा जितना ही अपर्याप्त है, लेकिन कम से कम प्रधानमंत्री ने स्वीकार तो किया, कि देश में बेरोजगारी है.”

आपको बता दें, कि यह बयान कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) ने एक वीडियो जारी करते हुए दिया है. उन्होंने यह भी कहा है, कि पीएम मोदी (PM Modi) का रोजगार मेला और 75,000 नियुक्ति पत्र अपर्याप्त हैं. हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि यह राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की भारत जोड़ो यात्रा की सफलता है.

ट्विटर पर शेयर किये गए इस वीडियो में कांग्रेस नेता ने कहा है, कि प्रधानमंत्री मोदी कृपया बताएं, कि आप 16 करोड़ नौकरियां कब तक देंगे. यह 16 करोड़ नौकरियां किस तारीख और दिन तक दी जाएंगी और 30 लाख रिक्तियां सरकारी विभागों में कब तक भरेंगी. देश के युवा नौकरी चाहते हैं और आपको उनको जवाब देना होगा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि रोजगार मेले का शुभारंभ करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 8 सालों में सरकार ने रोजगार और स्वरोजगार पर ध्यान केंद्रित किया है. ऐसे में, हम इस बार हम नियुक्ति पत्र एक साथ दे रहे हैं, जिससे विभाग भी समय से काम कर सके. इतना ही नहीं, हम आज़ादी के 75 साल को ध्यान में रखते हुए 75,000 नियुक्ति पत्र दे रहे हैं. हालांकि, आने वाले महीनों में लाखों और भी युवाओं को समय-समय पर नियुक्ति पत्र दिया जाएगा.

आगे प्रधानमंत्री ने यह भी कहा, कि हमने देखा है कि 8 साल पहले सरकार कैसे काम करती थी और एक फाइल को एक टेबल से दूसरी टेबल पर जाने में कितना समय लगता था. इतना ही नहीं, पहले सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करना एक काम था, जिसमें आपको कई प्रमाणपत्रों और सिफारिशों की ज़रूरत होती थी. मगर हमने केंद्र सरकार के ग्रुप सी और ग्रुप डी रोजगार के लिए साक्षात्कार को हटा दिया.

Image Source

यह भी पढ़ें: Arvind Kejriwal Punjab News: गुजरात में इस योजना को लागू करने का मांगा मौका

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com