Mansukh Mandaviya News: जन औषधि केंद्रों को बढ़ावा देने के लिए मनाया जा रहा है औषधि सप्ताह

Mansukh Mandaviya News: जन औषधि केंद्रों को बढ़ावा देने के लिए मनाया जा रहा है औषधि सप्ताह

केंद्र सरकार ने देशवासियों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए गुणवत्ता से भरपूर हर मुमकिन प्रयास करने की कोशिश की है. प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना का इस्तेमाल करके लोग आज सस्ती और अच्छी गुणवत्ता वाली जेनेरिक दवाओं को खरीद पा रहे हैं. कुछ दवाइयां ऐसी भी हैं जो जनता को बिल्कुल मुफ्त में मुहैया करवाई जा रही है. देश के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री Mansukh Mandaviya ने इस बारे में जानकारी देते हुए अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया है, कि "भारत की स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता को बेहतर करने के लिए तथा जन औषधि केंद्रों को देशभर में बढ़ावा देने के लिए 1 से 7 मार्च तक जन औषधि सप्ताह मनाया जा रहा है. जन औषधि दिवस सप्ताह के आज दूसरे दिन महिलाओं को जागरूक करने हेतु ‘मातृशक्ति सम्मान/स्वाभिमान’ अभियान चलाया जा रहा है.

इसके तहत देश के 75 शहरों में महिलाओं को जन औषधीय उत्पाद-दवा किट देकर सम्मानित किया गया". केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री Mansukh Mandaviya ने जन औषधि केंद्रों के बारे में जानकारी देते हुए कहा, कि "सभी को सस्ती दवाएं उपलब्ध कराने के लिए भारत में लगभग 8600 जन औषधि केंद्रों को खोला गया है, तथा इन जन औषधि केंद्रों की पहुंच को जनता तक बढ़ाने के लिए तथा जनता में जागरूकता पैदा करने के लिए 1 से 7 मार्च तक जन औषधि सप्ताह मनाया जा रहा है. जन औषधि केंद्रों में आज लाखों लोग सस्ते दामों पर जेनेरिक दवाएं खरीद सकते हैं".

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया गया जन औषधि दिवस कार्यक्रम का मुख्य एवं अंतिम समारोह 7 मार्च 2022 सोमवार को होगा. यह समारोह विज्ञान भवन, नई दिल्ली में आयोजित किया जाएगा. इस समारोह में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री Mansukh Mandaviya तथा रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री Bhagwanth Khuba भी शामिल होंगे. फार्मास्यूटिकल एवं मेडिकल डिवाइसेज ब्यूरो ऑफ इंडिया भी इस समारोह में शिरकत करने वाला है. देश भर में अलग-अलग जगहों पर हफ्ता भर चलने वाला यह समारोह देश में चौथी बार मनाया जा रहा है. इस चौथे जन औषधि दिवस का इस वर्ष का थीम "जन औषधि जन उपयोगी" रखा गया है. इस समारोह में जेनेरिक दवाइयों के उपयोग तथा जन औषधि के लाभ के बारे में बहुत सी जागरूकता अभियानों के बारे में बात की जाएगी.

Related Stories

No stories found.