Amit Shah vs Mamata Banerjee: बंगाल भाजपा ने दुर्गा पूजा के लिए तैयार की रणनीति

Amit Shah vs Mamata Banerjee: बंगाल भाजपा ने दुर्गा पूजा के लिए तैयार की रणनीति
NurPhoto

पश्चिम बंगाल भाजपा (West Bengal BJP) ने, इस साल दुर्गा पूजा पंडाल के उद्घाटन के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के सामने खड़ा करने का सोचा है. मिली जानकारी के मुताबिक, जनता से जुड़ाव बढ़ाने के उद्देश्य से बंगाल भाजपा ने केंद्रीय मंत्री को कोलकाता में दुर्गा पूजा पंडालों के उद्घाटन के लिए आमंत्रित किया है. हालांकि, इस बात की आधिकारिक पुष्टि होनी अभी बाकी है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि फिलहाल केंद्रीय गृह मंत्रालय की एक टीम कोलकाता पहुंच गई है और बंगाल भाजपा द्वारा, गृह मंत्री के दौरे के लिए प्रस्तावित पूजा पंडालों का दौरा कर रही है. इस दौरान, बंगाल भाजपा ने कोलकाता में 3 दुर्गा पूजा पंडालों और कोलकाता के बाहरी इलाके में कुछ का उद्घाटन अमित शाह द्वारा करने का प्रस्ताव रखा है. ऐसे में, गृह मंत्रालय की टीम इन इलाकों का दौरा करेगी और दिल्ली वापस जाकर रिपोर्ट देगी.

अमित शाह के अलावा, इस बीच मिथुन चक्रवर्ती (Mithun Chakraborty) कोलकाता पहुंच चुके हैं और बालुरघाट में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार (Sukanta Majumdar) की दुर्गा पूजा समेत कई दुर्गा पूजा का उद्घाटन कर रहे हैं. वहीं, शुभेंदु अधिकारी (Subhendu Adhikary) और दिलीप घोष (Dilip Ghosh) भी कई दुर्गा पूजा पंडालों का भी उद्घाटन कर रहे हैं. सालों से बंगाल के राजनेताओं का यह दृढ़ विश्वास रहा है, कि दुर्गा पूजा का उद्घाटन लोगों से जुड़ने के बेहतर तरीकों में से एक है.

गौरतलब है, कि ममता बनर्जी ने भी पितृ पक्ष के दौरान पहली बार दुर्गा पूजा का उद्घाटन करना शुरू कर दिया था. आमतौर पर पूजा का उद्घाटन महालय के बाद, पितृ पक्ष की समाप्ति और देवी पक्ष की शुरुआत के बाद शुरू होता है. पितृ पक्ष के दौरान, दुर्गा पूजा का उद्घाटन करने के लिए भाजपा ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की आलोचना शुरू कर दी है. शुभेंदु अधिकारी ने कहा, कि पितृ पक्ष के दौरान नया काम शुरू करना अशुभ माना जाता था, लेकिन ममता दीदी को हिंदू धर्म के बारे में पता नहीं है.

Image Source

यह भी पढ़ें: NIA Raid: शिकंजे में आए बहुत सारे नाम, क्या है ‘ऑपरेशन ऑक्टोपस' का सच?

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com