Republic Day 2022: सन 1950 में देश को मिला था ये ख़ास तोहफा

Republic Day 2022: सन 1950 में देश को मिला था ये ख़ास तोहफा

भारत हर वर्ष 26 जनवरी को अपना Republic Day मनाता है. इस वर्ष भारत अपना 73 वां गणतंत्र दिवस मनाने की तैयारियां कर रहा है. लेकिन वर्ष 1950 से, 24 जनवरी की भी एक खास विशेषता कायम हो चुकी है. क्योंकि, इसी दिन भारत ने अपना संविधान अपनाया और भारत सरकार अधिनियम (1935) को भारत के शासी दस्तावेज के रूप में समाप्त कर दिया.

24 जनवरी का भारत के लिए उतना ही महत्व है, जितना कि Republic Day का क्योंकि, इस खास दिन ही 1950 में ,भारत ने 'जन गण मन' को अपने राष्ट्रगान के रूप में अपनाया था. दिलचस्प बात यह है, कि इसी दिन 1950 में 'वंदे मातरम' को भी भारत के राष्ट्रीय गीत के रूप में अपनाया गया था.

अगर राष्ट्रगान की बात करें, तो यह मूल रूप से Rabindranath Tagore द्वारा बंगाली में 'भरोतो भाग्य बिधाता' के रूप में रचा गया है. इस औपचारिक गायन, ‘जन गण मन’ की पूरी अवधि लगभग 52 सेकंड है. यह राष्ट्रगान पहली बार सार्वजनिक रूप से 27 दिसंबर 1911 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के कलकत्ता सत्र में गाया गया था. अगर संक्षेप में कहा जाए, तो राष्ट्रगान बहुलवाद की भावना या अधिक लोकप्रिय शब्द 'विविधता में एकता' को दर्शाता है. यह राष्ट्रगान भारत की सांस्कृतिक विरासत की जड़ है.

Bureau of Outreach and Communication ने भी भारत को Republic Day की बधाई देते हुए अपने अधिकारिक ट्विटर अकाउंट के माध्यम से एक पोस्ट साझा की है. इस पोस्ट में भारत के राष्ट्रगान ‘जन गण मन’ की कुछ पंक्तियां लिख कर, इसके इतिहास का वर्णन किया गया है. इस पोस्ट के अनुसार भारत का राष्ट्रगान कुल 52 सेकंड का है. और इस को पहली बार, 24 जनवरी 1950 में औपचारिक तौर पर गाया गया था.प्रत्येक वर्ष, Republic Day का उत्सव 24 जनवरी से शुरू होता है. हालांकि, इस वर्ष से, यह 23 जनवरी से भारतीय नेता Subhash Chandra Bose की जयंती के अवसर पर शुरू हो चुका है.

Related Stories

No stories found.