Covid-19 के Delta Plus Variant पर WHO ने जताई चिंता

Covid-19 के Delta Plus Variant पर WHO ने जताई चिंता

Covid-19 की दूसरी लहर से अभी तक हम उबरे भी नहीं थे कि डेल्टा प्लस वैरिएंट ने कोहराम मचाना शुरू कर दिया है. यह वायरस ना केवल भारत बल्कि वैश्विक स्तर पर तेज़ी से फैल रहा है. अब तक यह भारत के 12 राज्यों में पैर पसार चुका है. महाराष्ट्र, दिल्ली, केरल, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा और तेलंगाना जैसे राज्यों में इस खतरनाक वैरिएंट के 50 फीसदी मामले सामने आए हैं.

शुक्रवार को WHO की प्रेस कांफ्रेंस में महानिदेशक गेब्रेएसस ने चिंता जताते हुए कहा कि "मुझे पता है कि वर्तमान में वैश्विक स्तर पर डेल्टा प्लस वैरिएंट से सभी चिंतित हैं. WHO भी इसके परिणामों को लेकर चिंताग्रस्त  है. यह अभी तक का सबसे तेजी से फैलने वाला वायरस पाया गया है. इसका संक्रमण वैश्विक स्तर पर बढ़ रहा है." उन्होंने चिंता जताते हुए आगे कहा कि जब केस ज़्यादा मिलेंगे तो हेल्थ सिस्टम में भी इजाफ़ा करना पड़ेगा. इसके साथ ही स्वास्थ्य कर्मियों की जान को भी खतरा रहेगा. 

कड़ी चेतावनी देते हुए, WHO की तकनीकी प्रमुख, डॉ मारिया वान केरखोव ने कहा है कि डेल्टा वायरस एक "खतरनाक" वायरस है. यह अल्फा संस्करण की तुलना में अधिक संक्रमणीय है. यह पूरे यूरोप और अन्य देशों में तेज़ी से फैल रहा है.  उन्होंने जोर देते हुए कहा है कि Covid-19 की वैक्सीन "अत्यंत प्रभावी" है. इसकी डोज पाकर गंभीर बीमारी और मृत्यु से बचा जा सकता है.

WHO के प्रमुख ने कहा कि यह बहुत ही सरल बात है,अधिक संक्रमण का अर्थ है अधिक वेरिएंट और कम संक्रमण का मतलब कम वेरिएंट. WHO ने आगे बताते हुए कहा कि की हम मौजूदा चार वैरिएंट अल्फा, बीटा, गामा और डेल्टा पर निगरानी रख रहे हैं. जिसमें डेल्टा सबसे प्यापक है. यह सभी WHO के क्षेत्रों में पाया जा रहा है. 

प्रेस कॉन्फ्रेंस से कुछ ही घंटे पहले पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने कहा था कि डेल्टा वैरिएंट के संक्रमण से ब्रिटेन में, एक सप्ताह में 33,630 केस की वृद्धि हुई और अभी तक 75,953 लोग इससे संक्रमित पाए गए हैं. 

यह वैरिएंट उन लोगों को संक्रमित कर रहा है, जिन लोगों ने अभी तक वैक्सीन का एक ख़ुराक़ भी नहीं लिया है. जब जब सरकार ने प्रतिबद्धता को हटाया है तब तब वापस से हमें कोरोना का नया वैरिएंट देखने को मिला है. 

आपको बता दें कि 15 जून को WHO द्वारा जारी Covid-19 साप्ताहिक महामारी विज्ञान अपडेट के मुताबिक डेल्टा वैरिएंट अब करीब 80 देशों में पाया जा रहा है. बी.1.617.2 डेल्टा स्वरूप का सबसे पहले भारत में अक्टूबर 2020 में पता चला था. शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने जम्मू कश्मीर, पंजाब, राजस्थान, गुजरात, हरियाणा जैसे अन्य राज्यों के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर डेल्टा प्लस वैरिएंट के प्रसार को रोकने के उपायों के प्रचार प्रसार का निर्देश दिया है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com