Taliban: कैसे एक आतंकवादी संगठन ने Afghanistan पर किया कब्जा, जानिए पूरा इतिहास

Taliban: कैसे एक आतंकवादी संगठन ने Afghanistan पर किया कब्जा, जानिए पूरा इतिहास

अफगानिस्तान में एक बार फिर से Taliban ने पूरी तरीके से कब्जा कर लिया है. दुनिया भर के देश, इसकी आलोचना कर रहे हैं. कई विशेषज्ञ इसे अमेरिका का करा धरा मानते हैं. तो कई, इसके लिए इस्लामिक कट्टर को जिम्मेदार मानते हैं. लेकिन यह सब शुरू कब और कैसे हुआ? कैसे एक आतंकवादी संगठन इतना ताकतवर बन गया? 

Afghanistan का इतिहास

साल 1921 में अफगानिस्तान और ब्रिटेन के बीच हुए तीसरे युद्ध को जीत अफगानिस्तान एक स्वतंत्र राष्ट्र बना. तब के शासक Amir Amanullah ने खुद को देश का राजा घोषित कर दिया और देश में सामाजिक उत्थान के लिए बदलाव लाने शुरु कर दिए थे. साल 1928 में Amir से नाराज आलोचकों ने सरकार के खिलाफ हथियार उठा लिए और 1929 तक राजा Amir Amanullah को देश छोड़ भागना पड़ा. उसके बाद साल 1933 में Zahir Shah देश के राजा बने जिनके 40 साल के शासनकाल में देश में शांति बनी रही. इन्हीं के शासनकाल के दौरान साल 1934 में अमेरिका ने भी अफगानिस्तान को देश के तौर पर स्वीकार कर लिया. 

 साल 1953 में Mohammed Daoud Khan, देश के प्रधानमंत्री बने और कम्युनिस्ट देश सोवियत रूस से अपने संबंध मजबूत करने लगे. इसके साथ अब अफगानिस्तान में महिलाओं के अधिकारों को ध्यान में रखा जाने लगा. साल 1973 में Khan ने राजा Zahir Shah को सैनिक सहायता से हटा कर खुद को देश का राष्ट्रपति घोषित कर दिया. साल 1978 में Khan को अफगानिस्तान के कम्युनिस्ट समूह ने मार गिराया  और अफगानिस्तान में आधिकारिक तौर पर एक कम्युनिस्ट सरकार शासन करना शुरू कर दिया.

इस नई सरकार को सोवियत रूस का समर्थन प्राप्त हो गया था. लेकिन इस सरकार की खुली विचारधारा के कारण देश के रूढ़िवादी संगठन नाराज होने लगे और उन्होंने इस सरकार खिलाफ हमले करना शुरू कर दिए. साल 1979 तक देश में आपसी राजनीतिक रंजिशों के कारण गृह युद्ध जैसे हालात पैदा होने लगे थे. अमेरिकी राजदूत Adolph Dubs को मार दिया गया और अमेरिका ने इसके कारण अफगानिस्तान से अपने सारे संबंध तोड़ दिए . सोवियत संघ रूस ने एक कम्युनिस्ट सरकार को बचाने के लिए अफगानिस्तान में प्रवेश किया  और Babarak Karmal प्रधानमंत्री बन गए .

Taliban का उदय

1980 के दशक में मुझाइदीन के लोग सरकार के खिलाफ हमले शुरू कर दिए. इसी दौरान Osama bin Laden का संगठन भी इसी संगठन से जुड़ गया . जिसके बाद नए कट्टरवादी संगठन Al Qaeda का निर्माण होता गया . अमेरिका, सोवियत रूस से अपनी दुश्मनी के चलते गैर आधिकारिक तरीके से समर्थन देने लगा. दशक के अंत तक Al Qaeda का ध्यान रूस से हटकर अमेरिका की और दुश्मनी के तौर पर जाने लगा. धीरे धीरे देश के कई हिस्सों में Al Qaeda का कब्जा हो गया. 1989 में रूस, देश से वापिस निकल गया. जिसके बाद Al Qaeda द्वारा अमेरिकी ठिकानों पर लगातार हमले किए गए.

 सितंबर साल 2001 में अमेरिकी वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर प्लेन से हमला हुआ  जिसमें एक हजार से भी अधिक लोग मारे गए थे. अमेरिकी सेना ने  अफगानिस्तान में प्रवेश किया  और आतंकवादी संगठनों के खिलाफ जंग छेड़ दी. 1999 से 2004 तक देश में तालिबान का शासन चला. अमेरिकी सेना की मदद के चलते देश में फिर से लोकतांत्रिक सरकार आयी, वहीं Bin Laden को अमेरिकी सेना द्वारा मार दिया गया. इस मौके पर Taliban एक बार के लिए हारा हुआ नजर आया.

कैसे आया Taliban फिर से सत्ता में?

साल 2019 में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति Donald Trump ने अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना के निकलने की घोषणा की थी. उसी को आगे बढ़ाते हुए अगले राष्ट्रपति Joe Biden ने भी इसी फैसले पर काम करना जारी रखा. अमेरिकी सेना के बाद अफगान सेना Taliban लड़ाकों से युद्ध न कर सकी और धीरे धीरे Taliban ने अफगानिस्तान के अधिकतर इलाकों पर कब्जा कर लिया. 15 अगस्त 2021 में जब अधिकतर अमेरिकी सेना देश से जा चुकी थी. अपनी शक्ति बढ़ाते हुए, Taliban ने अब राजधानी Kabul पर भी कब्जा कर लिया है. वहीं, प्रधानमंत्री Ashraf Ghani को देश छोड़कर भाग गए हैं.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com