Yogi Adityanath: मथुरा में लगा मांस और मदिरा पर पाबंध, सरकार दूसरे व्यवसाय शूरू करने की देगी ट्रैनिंग

Yogi Adityanath: मथुरा में लगा मांस और मदिरा पर पाबंध, सरकार दूसरे व्यवसाय शूरू करने की देगी ट्रैनिंग

उत्तर प्रदेश के मुख्य्मंत्री Yogi Adityanath जन्माष्टमी के उत्सव के दौरान मथुरा एवं वृंदावन के दौरे पर थे. उन्होंने मथुरा के रामलीला मैदान में सजे एक विशेष मंच पर से लोगों को संबोधित भी किया. इसमें उन्होंने एक बहुत ही विशेष घोषणा की. इस घोषणा में उन्होंने कहा कि मथुरा की धरोहर को बचाने के लिए अब से इस जगह पर मांस एवं मदिरा की बिक्री को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया जाएगा.

उन्होंने अपनी घोषणा के दौरान यह भी कहा कि जो लोग मथुरा में मांस और शराब बेचने का काम करते हैं वह अब दूध बेचने का कारोबार शुरू कर सकते हैं. मथुरा को भगवान कृष्ण का जन्म स्थान होने की वजह से तीर्थों में सर्वोपरि माना जाता है. इसलिए इस स्थान की धरोहर एवं मर्यादा की रक्षा करना देश के प्रतिनिधियों का कर्तव्य है. उन्होंने जनता को इस बात का आश्वासन भी दिया कि वह प्रशासन से इसे लागू करने के लिए एक योजना तैयार करने के लिए कहेंगे और यह भी सुनिश्चित करेंगे कि मांस या शराब बेचने वाले लोगों का "संगठित" तरीके से "पुनर्वास" किया जा सके.

मुख्यमंत्री Yogi Adityanath ने मथुरा के संतों और जनप्रतिनिधियों द्वारा सात तीर्थ स्थलों पर मांस और शराब की बिक्री पर रोक लगाने की मांग का समर्थन किया है. अपने समर्थन में उन्होंने कहा कि 2017 में, हमने यहां नगर निगम बनाया और फिर सात क्षेत्रों को तीर्थ स्थल घोषित किया. यहां के श्रद्धेय संतों और जनप्रतिनिधियों का मानना है कि इन क्षेत्रों में मांस और शराब का सेवन बंद कर देना चाहिए और मेरा मानना भी है कि ऐसा होना चाहिए. "मांस या मदिरा बेचने वालों को एक सुनियोजित तरीके से ट्रेनिंग दी जानी चाहिए. अगर वे दूध के छोटे-छोटे स्टॉल खोलते हैं, तो यह द्वापरयुग की याद दिलाएगा. उन्होंने देश को एक नई दिशा देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी तारीफ की.

उन्होंने कहा कि लंबे समय से खंडित पड़े धार्मिक स्थानों को अब पुनर्जीवित किया जा रहा है. इस मौके पर कैबिनेट मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी और श्रीकांत शर्मा भी मौजूद थे.

यह भी पढ़ें: Covid-19 Updates: पिछले 24 घंटे में आए 30,941 मामले, छह दिन बाद 40 हज़ार से कम दिखा आंकड़ा

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com