Vocal for local: प्रधानमंत्री ने की अपील “स्वदेशी बनें, स्वदेशी अपनाएं, मिलकर सब त्योहार मनाएं”

Vocal for local: प्रधानमंत्री ने की अपील “स्वदेशी बनें, स्वदेशी अपनाएं, मिलकर सब त्योहार मनाएं”

भारत में इस समय त्योहारों का मौसम चल रहा है, ऐसे में भारत के बाजारों में, देशी के साथ-साथ विदेशी चीजों का भी काफ़ी प्रभाव रहता है. मगर जब से भारत-चीन के आपसी व्यापारिक संबंध बिगड़े हैं, तब से भारत में घरेलू उत्पादों की मांग काफ़ी बढ़ गई है. भारत के इसी व्यापार और संस्कृति को बढावा देने के लिए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'Vocal For Local' के नारे पर ज़ोर दिया है, जिसका मूल उद्देश्य भारत में निर्मित उत्पादों को और बढ़ावा देना है.

ऐसा देखा जाता है, कि त्योहारों के नज़दीक आने पर और कारीगरों को बढ़ावा देने के लिए अक्सर प्रतिष्ठित हस्तियां, देश की जनता से भारत में बनी चीजें खरीदने का अनुरोध करतीं हैं. वहीं इस बार इसका सारा दारोमदार, Vocal For Local पर नज़र आ रहा है, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद बढ़ावा दे रहें हैं.  

Ravi Shankar Prasad का आग्रह

भारत सरकार के केंद्रीय मंत्री, Ravi Shankar Prasad ने अपने अधिकारिक ट्विटर अकाउंट के ज़रिए एक अनुरोध किया है. इस अनुरोध में उन्होंने भारत की जनता से कहा है, कि "त्योहारों का यह मौसम, बन जाए किसी की मुस्कान की वजह! आइए हम अपने स्थानीय कारीगरों के उत्पादों को खरीदकर उनका समर्थन करें. यह उन्हें प्रोत्साहित करेगा और उनके जीवन को रोशन करेगा. साथ ही, Vocal For Local को भी बढ़ावा देगा."

Piyush Goyal का जनता से Vocal for Local पर अनुरोध

मंत्री Ravi Shankar Prasad के अलावा, केंद्रीय कपड़ा मंत्री Piyush Goyal ने भी जनता से Vocal For Local होने का अनुरोध किया है. उन्होंने अपने आधिकारीक ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किया है, कि "इस फेस्टिव सीजन में वोकल बनें और लोकल को सपोर्ट करें. आइए हम यह सुनिश्चित करने के लिए हाथ मिलाएं, कि इस दिवाली हर स्थानीय उत्पाद निर्माता के घर में रोशनी हो. अपने स्थानीय कारीगरों से दिवाली की खरीदारी की तस्वीरें साझा करें और गर्व से Vocal For Local हो जाएं".

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि आमतौर पर भारत के प्रधानमंत्री, Narendra Modi भी अपने लगभग हर भाषण में जनता से Vocal For Local होने की विनम्र विनती करते हैं. यहां तक, कि भारत के 100 करोड़ टीकाकरण पूरे होने के खुशी में भी उन्होंने कहा था, कि "100 करोड़ टीके के खुराक की उपलब्धि, भारत के सभी 130 करोड़ नागरिकों की है. यह सिर्फ एक संख्या नहीं है, यह एक नए अध्याय, नए भारत की शुरुआत है. एक समय था, जब हम 'इस देश में बनें', 'उस देश में बनें' सुनते थे, लेकिन अब सभी भारतीयों को 'मेड इन इंडिया' की शक्ति का एहसास है. मैं सभी भारतीयों से आग्रह करता हूं, कि वह 'मेड इन इंडिया' उत्पादों को खरीदकर भारतीय निर्माताओं को प्रोत्साहित करें. साथ ही, Vocal For Local को भी बढ़ावा दें और इस दिवाली स्वदेशी बनें, स्वदेशी अपनाएं, मिलकर सब त्योहार मनाएं.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com