Uttar Pradesh News: बाढ़ के कहर ने किया जीवन बेहाल, खतरे के निशान से ऊपर बह रही है गंगा

Uttar Pradesh News: बाढ़ के कहर ने किया जीवन बेहाल, खतरे के निशान से ऊपर बह रही है गंगा

Uttar Pradesh के कई इलाकों में भारी बारिश लगातार जारी है. प्रदेश की प्रमुख नदियां गंगा और यमुना में पानी खतरे के निशान से एक मीटर ऊपर चल रहा है. पिछले कुछ दिनों से गंगा और यमुना में पानी की आवक लगातार जारी है. जिससे पानी का स्तर खतरे के ऊपर से पार हो चुका है. स्थिति ये हो गई है कि बाढ़ की वजह से लोग घरों की छतों पर अपने डेरा डाले हुए हैं. 

Uttar Pradesh के वाराणसी जिले में नदियों का जलस्तर बढ़ने से बाढ़ का पानी शहरी क्षेत्रों तक पहुंच गया है. वाराणसी में गंगा नदी बुधवार को अपने स्तर से 84 सेंटीमीटर अधिक चल रही थी. बुधवार को गंगा का जल स्तर 72.10 देखा गया था. वहीं, आसपास के लगभग 58 गांव बाढ़ से टापू बन गए हैं और करीब 31000 से अधिक लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं. 

प्रधानमंत्री Narendra Modi स्वयं वाराणसी जिले की लगातार अपडेट ले रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रधानमंत्री ने वाराणसी के जिला कलेक्टर से फोन पर बात कर हर संभव सहायता देने की पेशकश की है. 

Uttar Pradesh के करीब 20 जिलों में बाढ़ से स्थिति बिगड़ चुकी है. 20 जिलों में करीब 600 से अधिक गांव बाढ़ में जलमग्न हो गए हैं. राहत आयुक्त कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार राज्य के हमीरपुर, बांदा, इटावा, जालौन, वाराणसी, चंदौली, औरैया, कौशाम्बी, हाजीपुर, गोरखपुर, सीतापुर, कानपुर देहात, प्रयागराज, फर्रुखाबाद, आगरा, मिर्जापुर, बलिया, शाहजहापुर, मऊ, लखीमपुर खीरी, बहराइच, गोंडा, फतेहपुर और कानपुर नगर के 600 से अधिक गांव बाढ़ से प्रभावित हो चुके है. 

बाढ़ से हालात इतने खराब हो चुके हैं कि लोगों को बाहर निकलने के लिए नाव का इस्तेमाल करना पड़ रहा है. शहरी क्षेत्रों में जनता ने अपनी-अपनी छतों पर आशियाना बनाया हुआ है. राहत आयुक्त अनुसार राज्य में करीब 940 राहत कैंप लगाए गए हैं. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF), एस डी आर एफ और पीएसी के कुल 59 टीमें लगातार बचाव कार्य कर रही हैं. 

यह भी पढ़ें: Uttar Pradesh News: प्रयागराज में भारी बारिश से आई बाढ़, राज्य में उफान पर नदियां

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com