Uttar Pradesh News: फाफामऊ में दबंगों का नरसंहार, एक ही परिवार के 4 लोगों की बेरहमी से हत्या

Uttar Pradesh News: फाफामऊ में दबंगों का नरसंहार, एक ही परिवार के 4 लोगों की बेरहमी से हत्या

Uttar Pradesh में हाथरस और लखीमपुर खीरी मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था, कि अब एक और घटना ने राजनीतिक भूचाल ला दिया है. दरअसल, Uttar Pradesh के Prayagraj जिले के फाफामऊ थाना क्षेत्र के गोहरी मोहनगंज बाज़ार में दबंगों ने एक दलित परिवार के चार लोगों पर कुल्हाड़ी, फावड़ों से वार कर बेरहमी से हत्या कर दी. घटना के बाद शवों की हालत देखकर यह अंदाज़ा लगाया जा रहा है, कि दरिंदो पर खून सवार था. 

फाफामऊ के गोहरी गांव में सड़क से सटे हुए एक मकान में मृतक फूलचंद और उसका परिवार रहता था. घटना की रात फूलचंद, उसकी पत्नी मीनू और उसका बेटा शिव बाहर बरामदे में सो रहे थे, जबकि उसकी बेटी कमरे में सो रही थी. प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक़, यह घटना रात के वक्त की है, बरामदे में सो रहे फूलचंद और उसकी पत्नी चारपाई पर बरामदे में मृत पड़ी थी. बगल में उसके बेटे शिव का शव पड़ा था. वहीं, किशोरी का शव अस्त-व्यस्त हालत में कमरे के अंदर पड़ा हुआ था और ऐसा लग रहा था उसके साथ दुष्कर्म किया गया था. 

वहीं घटना के बाद आला अधिकारी मौके पर डॉग स्क्वॉड के साथ पहुंचे. इसके साथ ही, फोरेंसिक टीम भी वहां मौजूद रही. फोरेंसिक टीम ने घटना स्थल से फिंगरप्रिंट के साथ, मौके से बरामद हथियारों को भी कब्जे में ले लिया. जानकारी के मुताबिक़, इस घटना को 9 से 10 लोगों ने अंजाम दिया है.

Uttar Pradesh सरकार ने दिया 16.5 लाख का मुआवजा, 8 नामज़द गिरफ़्तार

Prayagraj के फाफामऊ में हुई इस घटना पर लोगों में भारी आक्रोश है. परिवार जनों ने 5 घंटे तक शव उठाने से मना कर दिया था. जिसके बाद Uttar Pradesh सरकार के 16.5 लाख के मुआवजे, सुरक्षा समेत कई आश्वासन पर, लोग शव उठाने को राज़ी हुए.

 मामले की जांच कर रहे पुलिस अफसरों ने बताया, कि "अब तक कुल आठ नामजद आरोपियों को गिरफ़्तार किया जा चुका है, जिनसे कड़ी पूछताछ जारी है. कई बिंदुओं पर भी जांच पड़ताल की जा रही है."

फाफामऊ घटना पर विपक्ष ने सरकार को घेरा

इस घटना के बाद विपक्ष ने Uttar Pradesh की जमकर आलोचना की है. वहीं, कांग्रेस महासचिव, Priyanka Gandhi ने फाफामऊ घटना में पीड़ित परिवार से मुलाकात कर सरकार पर निशाना साधा है. Priyanka Gandhi ने कहा, कि "प्रयागराज में फूलचंद पासी के परिवार के साथ घटी घटना सरकारी सरंक्षण में दलितों के साथ हुआ नरसंहार है. 2019 से सरकार की मशीनरी गुंडों को सरंक्षण देती रही. भाजपा सरकार किस मुंह से संविधान दिवस मना रही है, जब उसकी कानून की किताब में दलितों के खिलाफ केवल अन्याय है, अत्याचार है."

वहीं, Uttar Pradesh के पूर्व मुख्यमंत्री, Akhilesh Yadav ने भी राज्य सरकार की कड़ी निन्दा की है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, कि "इलाहाबाद के फाफामऊ में दबंगों के द्वारा 4 दलितों की हत्या दलित विरोधी भाजपा सरकार पर एक और बदनुमा दाग़ है. घोर निंदनीय! उम्मीद है ये अपराधी बिना चश्मे के भी दिख जाएंगे."

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com