Uttar Pradesh: पुलिसकर्मियों का तबादला, 3 साल से एक ही जगह तैनात पुलिसकर्मी हटेंगे

NOIDA, INDIA - JUNE 4: Police personnel look on as BJP party workers sit outside the Sector 24 police station in protest after a local leader was arrested for allegedly harassing a tenant on June 4, 2020 in Noida, India. (Photo by Sunil Ghosh/Hindustan Times via Getty Images)
NOIDA, INDIA - JUNE 4: Police personnel look on as BJP party workers sit outside the Sector 24 police station in protest after a local leader was arrested for allegedly harassing a tenant on June 4, 2020 in Noida, India. (Photo by Sunil Ghosh/Hindustan Times via Getty Images)

Uttar Pradesh में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए पुलिसकर्मियों के तबादले शुरू हो गए हैं. प्रदेश में एक ही जगह पर तीन साल से तैनात एएसपी, डीएसपी, इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टरों का ब्यौरा बनाकर उनका तबादला किया जाएगा. मुख्यमंत्री Yogi Adityanath की अध्यक्षता में गुरुवार को पुलिसकर्मियों के लिए एक समीक्षा बैठक की गई थी. जिसके बाद गृह विभाग ने डीजी अधिसूचना की अध्यक्षता में एक कमेटी का और एडीजी लॉ एंड ऑर्डर की अध्यक्षता में दूसरी कमेटी का गठन किया है. 

दरअसल, गुरुवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री Yogi Adityanath ने सभी जिलों के डीएम, एसपी एवं फील्ड पर तैनात अफसरों के साथ मैराथन समीक्षा बैठक की थी. बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने साफ निर्देश दिए की दागी और भ्रष्ट अफसरों को तुरंत हटाया जाए एवं जिलों में थानेदार व सीओ मेरिट के आधार पर पोस्टिंग की जाए. उन्होंने ऐसे पुलिस कर्मियों को चिन्हित करने के लिए दो स्क्रीनिंग कमेटियों के गठन का आदेश भी दिया. 

मुख्यमंत्री के आदेश के बाद Uttar Pradesh के मुख्य सचिव, गृह अवनीश अवस्थी ने दो स्क्रीनिंग कमेटीयों का गठन किया. जिसमें एक कमेटी एएसपी व डीएसपी और दूसरी, इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टरों का ब्यौरा तैयार कर एक सप्ताह के भीतर अपनी रिपोर्ट, गृह विभाग को भेजेगी. जिसके बाद स्क्रीनिंग कमेटी द्वारा बनाई गई रिपोर्ट के आधार पर, उन सभी पुलिस कर्मियों का तबादला किया जाएगा. मुख्यमंत्री के आदेश और स्क्रीनिंग कमेटी के गठन के बाद पुलिस महकमे में काफी तेज हलचल देखने को मिली है. 

सूत्रों के मुताबिक स्क्रीनिंग कमेटी की रिपोर्ट के बाद कई जिलों के डीएम और एसपी भी हटाए जा सकते हैं. गृह विभाग उनकी भी सूची तैयार कर रहा है और अक्टूबर तक उन्हें हटाने की संभावना भी है. Uttar Pradesh में IAS अधिकारियों कि बात की जाए, तो 75 जिलों में से 20 जिले ऐसे हैं, जहां विभिन्न पदों पर कई अधिकारी लंबे समय से टिके हुए हैं.  

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com