Income Tax Return News: करदाताओं को बड़ी राहत, वापस आएगा ब्याज और लेट फीस

Income Tax Return News: करदाताओं को बड़ी राहत, वापस आएगा ब्याज और लेट फीस

वित्तीय वर्ष 2020-21 के Income Tax Return दाखिल करने की तारीख को हाल ही में 30 सितम्बर, 2021 तक बढ़ा दिया गया है. लेकिन इसके बाद भी करदाताओं को शिकायत थी कि उनसे ब्याज और लेट फीस वसूली जा रही है. तो अगर आप भी ऐसे करदाताओं की सूची में शामिल हैं, तो आपके लिए एक खुशखबरी है. आयकर विभाग ने हाल ही में इसे लौटाने का फैसला लिया है. साथ ही यह भी बताया है कि इसकी वजह उनके सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी थी. 

क्या है Income Tax Return के नियम  

बात Income Tax Return के नियमों की करें, तो यहां एक आवश्यक नियम काम करता है. यदि कोई व्यक्ति आयकर विभाग द्वारा निर्धारित समय में इसे दाखिल ना करे, तो इसके लिए उसे एक निश्चित ब्याज और लेट फीस देनी होती है.

आयकर विभाग की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि, "Income Tax Return से संबंधित समस्याओं की वजह सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी थी. जिसके चलते करदाताओं से ब्याज और लेट फीस वसूली गई. जिसे विभाग वापस करेगा. साथ ही, साॅफ्टवेयर की कमियों को भी अब दूर कर लिया गया है."

करदाताओं को सलाह

आयकर विभाग ने करदाताओं को भी एक महत्वपूर्ण सलाह देते हुए कहा है कि, Income Tax Return दाखिल करने के लिए वह लेटेस्ट सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करें. विभाग ने जारी किए अपने बयान में कहा है कि, "फिलहाल सॉफ्टवेयर में मौजूद सभी खामियों को दूर कर लिया गया है. लेकिन हमारी करदाताओं को सलाह है कि, रिटर्न दाखिल के लिए वह लेटेस्ट सॉफ्टवेयर का ही उपयोग करें". आपको बता दें, कि आयकर विभाग का पोर्टल 7 जून, 2021 को Infosys के साथ मिलकर लाॅंच किया गया था. जहां इसके लाॅंच होने के समय से ही दिक्कत नज़र आती रही है. इन्हें दूर करने के लिए वित्त मंत्री Nirmala Sitharaman संबंधित कंपनी के अधिकारियों के साथ लगातार बैठक कर रहीं हैं.

क्या है पूरा मामला

आपको बता दें, कि आयकर विभाग ने Covid-19 की दूसरी लहर के असर को देखते हुए Income Tax Return दाखिल करने की समय सीमा को 31 जुलाई, 2021 से बढ़ाकर 30 सितंबर, 2021 कर दिया. इसके बाद भी काफी करदाताओं का कहना था कि उनसे लेट फीस और ब्याज वसूला जा रहा है. जिसके बाद करदाताओं ने सोशल मीडिया के माध्यम से आयकर विभाग से उसे तुरंत हटाने का अनुरोध किया था.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com