Tata Power: CEAT से मिलाया हाथ, मिलकर करेंगे 10 मेगावाट का कैप्टिव सोलर प्लांट स्थापित

Tata Power: CEAT से मिलाया हाथ, मिलकर करेंगे 10 मेगावाट का कैप्टिव सोलर प्लांट स्थापित

भारत की दो बड़ी कंपनियों के बीच, सोलर पावर के सौदे की खबर आई है. यह समझौता, भारत की प्रमुख Tata Group की Tata Power और मशहूर टायर निर्माता कंपनी, CEAT के बीच हुआ है. इस समझौते पर, CEAT का कहना है कि, "हमने Tata Power के साथ एक सौदा किया है. जिसके अंतर्गत, सोलापुर साइट पर 10 MW का कैप्टिव सोलर प्लांट स्थापित किया जाना है. जिससे, मुंबई के भांडुप में स्थित, कंपनी की टायर निर्माण स्थल पर बिजली की सुविधा उपलब्ध हो पाए".

CEAT ने इस समझौते पर, यह भी स्पष्ट किया है, कि सोलर प्लांट की स्थापना से कार्बन न्यूट्रैलिटी भी हासिल होगी. साथ ही, इस प्लांट से हर वर्ष लगभग, 21 मिलियन यूनिट ऊर्जा का उत्पादन होने की संभावना है. जिससे हर साल लगभग, 17.43 मिलियन किलोग्राम CO2 की भरपाई की जाएगी.

इस समझौते पर, CEAT के चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर, Kumar Subbiah ने कहा है कि. "Tata Power के साथ महाराष्ट्र में हमारा गठजोड़, हमारी प्रतिबद्धता को दिखाता है. जो, स्थाई ऊर्जा की ओर है".

CEAT की ओर से, प्रेस रिलीज़ भी जारी की गई है. इसमें बताया गया है कि, "Tata Power ने एक ऐसा विशेष वाहन तैयार किया है. जो इस, कैप्टिव सोलर पावर प्लांट की देखरेख करेगा. वहीं, वाहन की हिस्सेदारी के मामले में, CEAT 26 प्रतिशत हिस्सेदार है. दूसरी ओर, Tata Power के पास, 74 प्रतिशत की हिस्सेदारी है". 

Tata Power के सोलर रुफटॉप्स बिजनेस के प्रमुख, रविंदर सिंह ने कहा है कि, "हम TP अक्कलकोट के ज़रिये. एक मजबूत नवीकरणीय पोर्टफोलियो का अपना निर्माण जारी रखना चाहते हैं. साथ ही, कैप्टिव बिजली के उत्पादन में भी विस्तार करना चाहते हैं".

Tata Power की क्षमता की बात करें, तो वित्तीय वर्ष 2020-2021 में, यह 2800 मेगावाट थी. वहीं, पोर्टफोलियो पर ध्यान दें, तो कंपनी के पास 5.4 गीगावाट से अधिक ग्राउंड-माउंट यूटिलिटी- स्केल सोलर प्रोजेक्ट है. साथ ही, देश भर में, 500 मेगावाट से भी अधिक के रुफटॉप और वितरण के प्रोजेक्ट्स है. 

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com