Tata News: 68 साल के इंतज़ार के बाद Air India को वापस मिला पुराना साथी

Tata News: 68 साल के इंतज़ार के बाद Air India को वापस मिला पुराना साथी

67 वर्षों के बाद अब यह तय हो चुका है, कि Air India अपने पुराने मालिक Tata के पास वापस जाने के लिए तैयार है. शुक्रवार 8 अक्टूबर, 2021 को Tata Group के अध्यक्ष, N Chandrasekaran ने अपनी जीत की पुष्टि करते हुए एक ट्वीट किया है. ट्वीट में उन्होंने कहा है, कि "Tata Group, Air India की नीलामी बोली में विजेता घोषित होने पर बेहद खुश है. कंपनी के लिए यह एक ऐतिहासिक पल है. हमारे ग्रुप के लिए ये बेहद गर्व की बात है, कि हमें देश की झंडा धारक एयरलाइन के मालिकाना हक प्राप्त हुए हैं. हमारी कोशिश रहेगी, कि हमें ऐसी एयरलाइन का निर्माण कर सकें, जिस पर पूरे देश को गर्व हो. N Chandrasekaran ने इसके आगे कहा, कि मैं इस मौके पर भारतीय एविएशन के प्रणेता JRD Tata को श्रद्धांजलि पेश करता हूं, जिनकी यादों को हमने सहेज कर रखा हुआ है.

Air India का अधिग्रहण बना हुआ था रहस्य

हालांकि, Tata Group द्वारा Air India की नीलामी में जीत हासिल करने की अटकलें, पिछले कुछ समय से काफी तेज़ हो गईं थी. इसके बावजूद इस जानकारी की किसी भी प्रकार से पुष्टि नहीं हो पाई थी. मगर अब यह साफ हो चुका है, की Air India का Tata Group द्वारा अधिग्रहण, आधिकारिक रूप से किया जा चुका है. जानकारी के अनुसार, Tata Group ने Air India के अधिग्रहण के लिए 18,000 करोड़ रुपए की बोली लगाई थी, जो कि अंत में नीलामी जीतने के लिए काफी थी. 18,000 करोड़ रूपए में से 15,300 करोड़ रुपए की राशि Tata Group, Air India के कर्जे़ के रूप में चुकाएगी. इसके बाद बची हुई 2,700 करोड़ रुपए की राशि, सरकार को उपलब्ध कराई जाएगी. यह जानकारी सेक्रेटरी, तुहिन कांत पांडे द्वारा उपलब्ध कराई गई है. सरकार द्वारा यह कोशिश की जा रही है, कि Air India के नए मालिकों को दिसंबर तक पूरे तरीके से एयरलाइंस का कामकाज सौंप दिया जाए.

Air India से है Tata को खास लगाव

Air India की स्थापना Tata Airlines के रूप में सन 1932 में JRD Tata द्वारा की गई थी. Tata Airlines, JRD Tata का ड्रीम प्रोजेक्ट हुआ करता थी. JRD Tata स्वयं एक कुशल पायलट थे और भारतीय इतिहास की इस पहली फ्लाइट को कराची से उड़ाकर मुंबई तक लाए थे. विमान के प्रति JRD Tata का यह प्रेम, फ्रांस में जगा था. फ्रांस में पढ़ाई के लिए गए जेआरडी टाटा जिनके घर रहते थे, वह एक कुशल पायलट थे और इंग्लिश चैनल को फ्लाइट के ज़रिए पार करने वाले पहले पायलट होने का रुतबा रखते थे. हवाई जहाज़ों के प्रति अपने प्रेम और जुनून को जेआरडी टाटा ने भारत आकर साकार किया. लेकिन आज़ादी के उपरांत Jawaharlal Nehru ने टाटा एयरलाइंस का राष्ट्रीयकरण कर दिया और उसका नाम बदलकर Air India पड़ गया. नेहरू के इस फैसले से जेआरडी टाटा खुश नहीं थे. लेकिन नेहरू ने उन्हें, Air India का अध्यक्ष बनाया. इसके बाद जेआरडी टाटा ने भी भारत के पहले प्रधानमंत्री के फैसले का सम्मान करते हुए, Air India को भारत ही नहीं दुनिया की सर्वोत्तम एयरलाइंस बनाने के लिए अथक प्रयास किए.

Ratan Tata का बयान

Air India, Tata Group द्वारा अधिग्रहण किए जाने के बाद, Ratan Tata बेहद भावुक नज़र आए. उन्होंने कहा, कि एक समय जेआरडी टाटा के नेतृत्व में Air India विश्व की सबसे प्रतिष्ठित एयरलाइंस में से एक बन चुकी थी. Tata के पास अब एक और मौका है, कि वह Air India को उसकी प्रतिष्ठा वापस दिला सके. अगर आज जेआरडी टाटा हमारे बीच होते, तो वह खुशी से फूले नहीं समाते. हालांकि, वह मानते हैं, कि Air India की हालत सुधारने के लिए Tata Group को काफी प्रयास करने होंगे. लेकिन साथ ही उन्होंने यह भी जोड़ा, कि इस डील के ज़रिए हमारे पास एविएशन इंडस्ट्री में अपनी पहुंच को और मज़बूत करने का मौका है. 

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com