Swarnim Vijay Parv: 1971 की जंग जीतने की याद में मनाया गया पर्व

Swarnim Vijay Parv: 1971 की जंग जीतने की याद में मनाया गया पर्व

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 का युद्ध काफी अहम था. इसमें भारत ने पाकिस्तान को पटखनी देते हुए विजय पताका फहराया था. इसी दिन भारत ने बंगलादेश को आज़ादी हासिल करने में भी मदद की थी. इसी जीत को मनाने और भारत-बांग्लादेश की दोस्ती के 50 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में इंडिया गेट, नई दिल्ली में Swarnim Vijay Parv मनाया गया.  

इस वर्ष भी रक्षा मंत्री Rajnath Singh ने Swarnim Vijay Parv का उद्घाटन किया है. 1971 के युद्ध के दौरान इस्तेमाल किए गए प्रमुख हथियारों और उपकरणों को भी इस समारोह के दौरान प्रदर्शित किया गया. इस समारोह में बांग्लादेश के कई गणमान्य व्यक्ति भी मौजूद थे.

Swarnim Vijay Parv समारोह के उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान रक्षा मंत्री Rajnath Singh ने कहा, कि "भारत ने बांग्लादेश में लोकतंत्र की स्थापना में योगदान दिया है और पिछले 50 वर्षों में, बांग्लादेश लगातार विकास के पथ पर है, जो दुनिया के बाकी हिस्सों के लिए एक प्रेरणा है. हम इस बात को जानते हैं कि बंगाली बंधुओं पर हो रहे अत्याचार पूरी मानवता के लिए खतरा थे. ऐसे में, यह भारत का राज धर्म, राष्ट्र धर्म, और सैन्य धर्म भी था, जिसकी वजह से ही भारत हरकत में आया तथा बांग्लादेश वासियों को आज़ादी मिली."

Swarnim Vijay Parv के उद्घाटन समारोह में रक्षा मंत्री Rajnath Singh, CDS General Bipin का स्मरण कर काफ़ी भावुक भी हो उठे थे. उन्होंने कहा, कि "भारत सरकार ने हर वर्ष की तरह इस बार भी इस कार्यक्रम को पूरे जोर-शोर से मनाने का फैसला किया था. लेकिन जैसे ही CDS General Bipin Rawat और देश के अन्य जवानों की मृत्यु की खबर मिली, तो सरकार ने इस कार्यक्रम को सिर्फ सादगी के साथ ही मनाने का निर्णय लिया. मैं आज इस मौके पर उन्हें अपनी तरफ से श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं तथा आप सब को यह बताना चाहता हूं, कि वह इस कार्यक्रम को लेकर भी काफी उत्साहित थे."

Swarnim Vijay Parv समारोह के मौके पर CDS General Bipin Rawat द्वारा प्री-रिकॉर्डेड संदेश भी चलाया गया. इस संदेश में उन्होंने भारतीय सेना को बधाई देते हुए कहा था, कि "1971 की जीत भारत के लिए ऐतिहासिक क्षण से कम नहीं था. मैं सभी को इस दिन की बधाई देता हूं."

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com