Sneha Dubey: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को दिया तीखा जवाब, जानिए कौन है यह महिला

Sneha Dubey: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को दिया तीखा जवाब, जानिए कौन है यह महिला

भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में Sneha Dubey के संबोधन को सराहा जा रहा है. उन्होंने कश्मीर का मुद्दा उठाते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री Imran Khan को जवाब देते हुए पाकिस्तान को फिर से फटकार लगाई. भारत ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि, पाकिस्तान में आतंकवादी खुले आम घूमते हैं. पाकिस्तान एक "आगजनी" है, जो खुद को दुनिया के समक्ष "अग्निशामक" के रूप में पेश करता है.

Imran Khan ने Covid-19 सावधानियों के मद्देनजर एक संबोधन वीडियो जारी किया था. जिसमें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री Imran Khan ने अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के भारत के 2019 के फैसले का जिक्र किया था. साथ ही, पाकिस्तान समर्थक अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी की मौत के बारे में बात की थी. Imran Khan ने वीडियो में आगे कहा, कि इस्लामोफोबिया का सबसे खराब और सबसे व्यापक रूप अब भारत पर राज करता है. 

United Nation General Assembly की प्रथम भारतीय महिला सचिव Sneha Dubey ने तीखा जवाब देते हुए कहा कि, पाकिस्तान की नीतियों का खामियाजा पूरी दुनिया को भुगतना पड़ा है. क्योंकि पाकिस्तान की पनाह में आतंकवादियों को फ्री पास मिला हुआ है. युवा राजनयिक, जिन्होंने विश्व स्तर पर प्रशंसा हासिल की है, ने दोहराया कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख, "भारत का अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा थे, हैं और रहेंगे." उन्होंने कहा, कि इसमें वे क्षेत्र शामिल हैं, जो पाकिस्तान के अवैध कब्जे में हैं. हम पाकिस्तान से अवैध कब्जे वाले सभी क्षेत्रों को तुरंत खाली करने का आह्वान करते हैं. इस करारे जवाब के बाद से सोशल मीडिया पर #SnehaDubey ट्रेंड करने लगा. ट्विटर से लेकर फेसबुक तक, लोग इस दमदार महिला अधिकारी के बारे में सर्च करने लगे. 

Sneha Dubey ने कहा, कि आज, पाकिस्तान में अल्पसंख्यक सिख, हिंदू, ईसाई निरंतर भय और राज्य प्रायोजित दमन में रहते हैं. यह एक ऐसा शासन है, जहां इसके नेतृत्व द्वारा यहूदी-विरोधीवाद को सामान्य किया जाता है.भारत और पाकिस्तान के बीच समानता को बताते हुए, उन्होंने कहा कि, भारत अल्पसंख्यकों की एक बड़ी आबादी के साथ एक बहुलवादी लोकतंत्र है. जिन्होंने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्य न्यायाधीशों और थल सेना प्रमुखों सहित देश में सर्वोच्च पदों पर कार्य किया है. 

Sneha Dubey ने यह भी कहा कि, पाकिस्तान के विपरीत, भारत एक स्वतंत्र मीडिया वाला देश है. भारत में एक स्वतंत्र न्यायपालिका है, जो हमारे संविधान पर नजर रखती है और उसकी रक्षा करती है. उन्होंने कहा कि, बहुलवाद एक अवधारणा है जिसे पाकिस्तान के लिए समझना बहुत मुश्किल है, जो संवैधानिक रूप से अपने अल्पसंख्यकों को राज्य के उच्च पदों के लिए इच्छुक होने से रोकता है. 

Imran Khan की बोलती बंद करने वाली Sneha Dubey ने पहले प्रयास में ही UPSC में सफलता प्राप्त की थी. आपको बता दें, कि वे 2012 बैच की महिला IFS अधिकारी हैं. IFS बनने के बाद उनकी नियुक्ति विदेश मंत्रालय में हुई. इसके बाद साल 2014 में भारतीय दूतावास मैड्रिड में उनकी नियुक्ति की गई. कुछ साल बाद उन्हें संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत की प्रथम सचिव के रूप में नियुक्त किया गया. Sneha Dubey को पहले से ही अंतरराष्ट्रीय मामलों में बहुत रुचि थी, जिसके चलते उन्होंने भारतीय विदेश सेवा में जाने का फैसला लिया. 

आपको बता दें, कि Sneha Dubey ने JNU से एमए और एमफिल की डिग्री प्राप्त की है. Sneha की शुरुआती शिक्षा गोवा में हुई. इसके बाद उन्होंने पुणे के फर्ग्युसन कॉलेज से स्नातक किया. संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत की प्रथम सचिव Sneha Dubey ने कहा कि, पाकिस्तान के पीएम Imran Khan ने भारत के आंतरिक मामलों को दुनिया के मंच पर लाने और झूठ फैलाकर प्रतिष्ठित मंच की छवि खराब करने की कोशिश की है. Sneha Dubey ने इस प्रयास के जवाब में 'राइट टू रिप्लाई' का इस्तेमाल किया. उन्होंने कहा, कि पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र संघ के मंच का पाकिस्तान ने गलत इस्तेमाल किया है. 

Sneha Dubey को इस भाषण पर लोगों ने बधाई देते हुए कहा, कि हमें इस पद पर पहुंचने में 10 साल लग गए. हमे पाकिस्तान को ऐसे जवाब बहुत पहले ही देना चाहिए था. वहीं अन्य कई लोगों ने Sneha Dubey के इस भाषण की तुलना शेरनी से की है. शिवांगी झा ने ट्विटर पर लिखा कि, लड़कियों बोलना चाहती हो? हमारी शेरनी Sneha Dubey की तरह दहाड़ो. वहीं, स्नेहा नाम की यूजर ने लिखा, अपनी जिंदगी के 5 मिनट निकालो और इस वीडियो को देखो. इस्तेमाल की गई मजबूत भाषा को देखो. हमने संयुक्त राष्ट्र में कई प्रतिक्रियाएं देखी हैं, लेकिन यह अलग है. पाकिस्तान और अन्य देशों को कड़ा संदेश दिया गया.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com