Single Dose Cocktail दिखा रही है मरीजों पर अच्छे नतीज़े, कम समय मे जल्दी ठीक हो रहें हैं मरीज़

Single Dose Cocktail दिखा रही है मरीजों पर अच्छे नतीज़े, कम समय मे जल्दी ठीक हो रहें हैं मरीज़

Single dose cocktail से कोरोना मरीजों का ईलाज पिछले दो हफ़्तों से चल रहा है. इससे इलाज करने वाले डाक्टरों को नई उपलब्धी मिली है. डाक्टरों ने यह पाया की जिन कोरोना मरीज़ो का इलाज Single dose cocktail का इस्तेमाल करके किया जा रहा था, वे मरीज दूसरे मरीज़ो से मुकाबले जल्दी ठीक होने लगे. डॉक्टरों ने यह भी पाया है कि इस डोज से ईलाज करवा रहे कुछ हल्के लक्षणों वाले कोरोना महज 24 घन्टे के भीतर ठीक हो गए.

क्या है Single dose cocktail?

Single dose cocktail एक मोनोक्लोनल एंटीबॉडी है. यह आम तौर पर प्रयोगशाला में निर्मित प्रोटीन होते हैं. यह प्रोटीन वायरस से लड़ने के लिए मानव शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली की नकल करते हैं और रोगियों को तेजी से ठीक होने में सहायता करते हैं. यह केवल सौम्य से औसत लक्षणों वाले रोगियों के लिए सही से काम करते हैं. इस Single dose cocktail की एकल-खुराक उपचार की कीमत 60,000 रुपये है.

Single dose cocktail आई.सी.यू की उपयोगिता में कमी ला सकते है

भारत मे डॉक्टर इसकी सामान्य उपयोगिता को लेकर बंटे हुए हैं. संक्रमित बीमारियों के विशेषज्ञ डॉ महेश लाखे का कहना है कि "भारत में हम जो परिणाम देख रहे हैं, उसके साथ मोनोक्लोनल एंटीबॉडी की एकल-खुराक कॉकटेल उन लोगों के लिए सही है जो कम संक्रमित है. इसके इस्तेमाल से संक्रमण दर को बढ़ने से रोका जा सकता है.  इस तरह इसके इस्तेमाल से मरीज़ आईसीयू में पहुंचने से बच सकते हैं. ".

दूसरी तरफ़ संक्रामक रोगों के विशेषज्ञ परीक्षित प्रयाग ने कहा, 'कॉकटेल थेरेपी कोई चमत्कारिक दवा नहीं है. अध्ययनों से पता चला है कि यह अस्पताल में भर्ती होने या इमरजेंसी की स्थिति को लगभग 70% तक कम कर सकता है. लेकिन वर्तमान में, इसके उपयोग के लिए सबूत मजबूत नहीं हैं."

क्या नए कोरोना वैरिएंट के आने से इसकी कारगरता कम होगी?

Single dose cocktail से इलाज हर कोविड मरीज के लिए नहीं है. यह ईलाज बस उन ही मरीजों के लिए है जो ऑक्सीजन सपोर्ट पर नहीं है. या जिनको कोरोना के साथ कोई और गम्भीर बीमारी नहीं है. अध्ययनों से पता चला है कि यह B1.617 जैसे वेरिएंट के खिलाफ काम करता है. हालांकि, जैसे-जैसे नए वेरिएंट सामने आएंगे, प्रभावशीलता कम हो सकती है."

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com