Infosys Insider Trading: SEBI ने उठाया सख्त कदम, लगाई स्टाॅक ट्रेडिंग पर रोक

Infosys Insider Trading: SEBI ने उठाया सख्त कदम, लगाई स्टाॅक ट्रेडिंग पर रोक

आज 29 सितंबर, 2021 को Security and Exchange Board of India (SEBI) ने Infosys के कर्मचारी Ramit Chaudhri की स्टाॅक एक्सचेंज में ट्रेडिंग पर रोक लगा दी. साथ ही, यह भी स्पष्ट किया गया कि, "Ramit वर्ष 2020 में Vanguard सौदे के समय इनसाइडर ट्रेडिंग में शामिल थे. उस वक़्त कंपनी के साॅल्यूशन हेड होने के नाते उन्हें सौदे के बारे में सीधी जानकारी थी." फिलहाल मामला इनसाइडर ट्रेडिंग से जुड़ा होने के नाते SEBI और Infosys इस पर सख़्त नज़र आ रहे हैं. 

आपको बता दें, कि वर्ष 2020 में Infosys ने अमेरिकी निवेशक कंपनी Vanguard के साथ 1.5 बिलियन डॉलर का समझौता किया था. यह समझौता 10 वर्षों के लिए किया गया था, जो कंपनी के रिकॉर्ड कीपिंग बिज़नेस से संबंधित है. उसी दौरान, Ramit ने कंपनी से संबंधित गुप्त जानकारियां शेयर बाज़ार में मौज़ूद निवेशकों से सांझा की, जो इनसाइडर ट्रेडिंग के अंतर्गत आती है. हालांकि, इससे पहले जून 2021 में भी SEBI इनसाइडर ट्रेडिंग मामले में Infosys के 2 अधिकारियों और 8 लोगों पर 3.06 करोड़ रुपए का जुर्माना लगा चुका है.

क्या होती है इनसाइडर ट्रेडिंग? 

SEBI ने निवेशकों के हितों की रक्षा करने की मंशा से इनसाइडर ट्रेडिंग पर पूर्णतः रोक लगा रखी है. इसे आम भाषा में शेयर बाज़ार से संबंधित लोग भेदिया कारोबार भी कहते हैं. इनसाइडर ट्रेडिंग का स्पष्ट मतलब है कि, किसी कंपनी से जुड़े व्यक्ति का कंपनी के शेयरों की जानकारी सार्वजनिक करना या उसका फ़ायदा उठाना. आपको बता दें, कि महत्वपूर्ण जानकारी होने के बावजूद कंपनी के शेयर खरीदना या बेचना, कानूनन अपराध है. यहां तक कि, इसकी जानकारी औरों तक पहुंचाना भी अपराध है. 

Infosys के अलावा, इन कंपनियों के नाम की रही इनसाइडर ट्रेडिंग में चर्चा 

कंपनीइनसाइडर ट्रेडिंग मामला
1.Zee Entertainment28 सितंबर, 2021 को कंपनी से संबंधित 5 लोगों पर इनसाइडर ट्रेडिंग का आरोप लगा था. 
2.Wiproकंपनी के कर्मचारी Keyur Maniar पर Infosys से संबंधित Vanguard समझौते को लेकर आरोप लगा है.
3.Bharti Airtelकंपनी के मालिक Sunil Mittal के खिलाफ़ SEBI ने मामला दर्ज किया, जो वर्ष 2020 में रद्द कर दिया गया था. 
4.Sun Pharmaकंपनी के Senior Executive की पत्नी के खिलाफ़, वर्ष 2019 में इनसाइडर ट्रेडिंग का मामला दर्ज़ हुआ था.
5.Videoconबिज़नेसमैन Venugopal पर भी इस वर्ष 2021 में SEBI ने 75 लाख रुपए का जुर्माना लगाया था, जो Videocon Industries के शेयर की जानकारी साझा करने पर लगा था. 

इनसाइडर ट्रेडिंग में SEBI का कार्य

इनसाइडर ट्रेडिंग पर रोक लगाने के लिए SEBI पूरी तरह से सक्रिय है. यह शेयर बाज़ार की हर गतिविधियों पर नज़र यखती है. सिर्फ यही नहीं, जारी मापदंडों का पालन न होने पर भी SEBI के पास सख़्त सज़ा का प्रावधान है. मूल रूप से निवेशकों के हित के लिए शुरू हुआ यह प्रावधान, आज SEBI के मुख्य कार्यों में शामिल है. 

Infosys का भारत में सफर 

आधारकार्य/प्रभाव
1.स्थापनाInfosys, भारत में वर्ष 1981 से काम कर रही है. यह 100 बिलियन डॉलर के बाज़ार पूंजीकरण के आंकड़े को पार करने वाली चौथी भारतीय कंपनी है. इसके संस्थापक N.R. Narayana है, जिन्होंने केवल 10,000 रुपए की मामूली रकम से बिज़नेस जगत में कदम रखा था. 
2.आय कंपनी की सालाना आय लगभग 13.56 बिलियन डॉलर से भी ज़्यादा है. वहीं इसकी संपत्ति 15 बिलियन डॉलर है. लगातार उतार-चढ़ाव देख चुकी ये कंपनी, दूसरी कंपनियों के लिए मिसाल के तौर पर भी देखी जाती है.
3.कर्मचारी संख्यावर्ष 2021 तक की बात करें, तो कंपनी से लगभग 2,59,619 कर्मचारी जुड़े हुए हैं. इस संख्या में लगातार वृद्धि जारी है, क्योंकि कंपनी हर साल हज़ारों की संख्या में भर्ती करती है. 
4.क्षेत्रIT क्षेत्र की यह कंपनी, विश्वभर में जाना-माना नाम है. बिज़नेस परामर्श से लेकर सूचना प्रौद्योगिकी तक में बड़े नामों में शामिल है. 
5.भौगोलिक उपस्थितिभारत के अलावा, यह कंपनी अमेरिका, चीन, आस्ट्रेलिया, जापान, यूरोप, आदि तक में कारोबार कर रही है. 

Infosys में इनकी है हिस्सेदारी

आपको बता दें, कि किसी भी कंपनी को खड़े होने में बहुत सारे मज़बूत कंधों की आवश्यकता होती है. इनको आसान भाषा में कंपनी का शेयरधारक भी कहा जाता है. जो कंपनी को एक स्पष्ट रूप देने में अहम भूमिका में होते है. उसी क्रम में बात 29 जुलाई, 2021 तक की करें, तो Infosys में 100% हिस्सेदारी कुछ इस तरह नज़र आती है – 

शेयर बाज़ार में कंपनी के स्टाॅक्स गिरे

Reliance और TCS जैसी बड़ी कंपनियों की बराबरी करने वाली Infosys, फिलहाल शेयर बाज़ार में ऊथल-पुथल करती नज़र आ रही है. कंपनी के स्टाॅक्स, आज सुबह से ही लाल निशान पर बने हुए थे, जो फिलहाल हरे में तब्दील हो चुके हैं. खबर लिखें जाने तक, कंपनी के स्टाॅक्स 1% से कम की बढ़त के साथ 1,688.55 के स्तर पर कारोबार कर रहे थे. वहीं बीते कुछ समय की बात करें, तो कंपनी शेयर बाज़ार में ज़बरदस्त गति में नज़र आ रही थी. फिलहाल, अभी ये देखना होगा कि, इस खबर से कंपनी के निवेशकों पर क्या असर पड़ता है. 

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com