Sarva Shiksha Abhiyan: सरकार ने बनाया ऑनलाइन डाटा माड्यूल, अब हर बच्चे को मिलेगी शिक्षा

Sarva Shiksha Abhiyan: सरकार ने बनाया ऑनलाइन डाटा माड्यूल, अब हर बच्चे को मिलेगी शिक्षा

Sarva Shiksha Abhiyan के चलते अब स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने एक ऑनलाइन मॉड्यूल विकसित किया है. Sarva Shiksha Abhiyan के तहत यह ऑनलाइन मॉड्यूल भारत के हर राज्य और केंद्र शासित प्रदेश द्वारा पहचाने गए स्कूल से बाहर के बच्चों के डेटा को संकलित करेगा और इसे समग्र शिक्षा के PRABANDH पोर्टल पर विशेष प्रशिक्षण केंद्रों (STCs) के साथ मैप करेगा.

Sarva Shiksha Abhiyan में क्या है नई शिक्षा नीति?

इस ऑनलाइन मॉड्यूल द्वारा सरकार ने नई शिक्षा नीति (एनईपी 2020) पर ज़ोर डाला है. NEP-2020 pdf में सभी योजनाएं विस्तार में बताई गईं हैं. इस मॉड्यूल से इकठ्ठा किया गया डाटा स्कूल छोड़ चुके बच्चों को स्कूलों में वापस लाना सुनिश्चित करेगा जो शिक्षा का अधिकार अधिनियम द्वारा अनिवार्य हैं.

'ताकि कोई न रह सके शिक्षा से वंचित': रमेश पोखरियाल

भारत के केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ने यह बयान दिया है कि सरकार की यह प्रथम जिम्मेदारी है कि वह भारत के हर विद्यार्थी का ध्यान रखें. इसीलिए सरकार ने इस ऑनलाइन मॉड्यूल को तैयार किया है ताकि कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित ना रह पाए. 6 से 14 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चे जो स्कूल नहीं जाते हैं उनके लिए यह सुविधा काफी फायदेमंद रहेगी. इस सुविधा के तहत क्षेत्र के स्कॉलो में आयु-उपयुक्त प्रवेश की सुविधा के लिए योजना में विशेष प्रशिक्षण की व्यवस्था करने के लिए वित्तीय प्रावधान किए गए हैं. इसके द्वारा बच्चों के सीखने के अंतराल को कवर करने की कोशिश की जाएगी ताकि उन्हें सही उम्र में सही शिक्षा प्रदान हो.'

सरकार का इरादा विद्यार्थियों को वित्तीय मदद देना

रमेश पोखरियाल ने अपने बयान में यह भी कहा कि 16 से 18 वर्ष के बच्चों को उनकी शिक्षा जारी रखने के लिए वित्तीय मदद भी दी जाएगी. यह मदद खासकर उन बच्चों को मिलेगी जो आर्थिक रूप से काफी कमजोर है. सरकार की यह कोशिश है कि जो बच्चे स्कूलों के माध्यम से अपनी शिक्षा जारी नहीं रख सकते वह कम से कम ओपन डिस्टेंस लर्निंग के माध्यम से अपनी शिक्षा जारी रख सकेंगे.

महामारी का शिक्षा पर पढ़ा काफी असर

विशेषज्ञों का मानना ​​​​है कि कोरोना वायरस महामारी की वजह से जब देश के लाखों स्कूल बंद हुए हैं तब विद्यार्थियों की शिक्षा पर काफी ज्यादा असर पड़ा है. रिवर्स माइग्रेशन की स्थिति पैदा हुई है जिसे शहरी भारत ने महामारी की दो लहरों के दौरान देखा है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com