RBI New Rules: 1 अक्टूबर से बदलेंगे नियम, EMI से लेकर भुगतान तक सब कुछ होगा प्रभावित

RBI New Rules: 1 अक्टूबर से बदलेंगे नियम, EMI से लेकर भुगतान तक सब कुछ होगा प्रभावित

भारत में बैंकों का बैंक कहा जाने वाला Reserve Bank of India (RBI) आज 1 अक्टूबर, 2021 को कुछ बड़े बदलाव करने जा रहा है. ऐसे तो हर महीने की पहली तारीख़ कुछ ना कुछ बदलाव लेकर आती ही है. मगर इस बार बदलाव की इस सूची में RBI का नाम भी शामिल है. इसकी ऑटो डेबिट भुगतान संबंधित सेवा 1 अक्टूबर, 2021 से बंद होने जा रही है. 

ऑटो डेबिट यानी तय समय पर अपने आप होने वाला भुगतान, जैसे EMI, ऐप का सब्सक्रिप्शन शुल्क, बिल भुगतान, आदि. ऑटो डेबिट बिना किसी पूर्व सूचना के आपके खाते से दूसरे खाते में जमा हो जाता है. मगर फिलहाल, इसको लेकर RBI की ओर से एक अहम सूचना जारी हुई है. खबर है कि, 1 अक्टूबर, 2021 से इस पर रोक लग गई है. आपको बता दें, कि RBI ने ऑटो डेबिट भुगतान को लेकर एक नया नियम जारी किया है. इस नए नियम के अनुसार, ऑटो डेबिट भुगतान में सुरक्षा के लिहाज़ से एडिशनल फैक्टर ऑथेंनटिकेशन को शामिल किया जा रहा है. इस कारण, अब कोई भी भुगतान जारी रखने के लिए उपभोक्ताओं से स्वीकृति ली जाएगी. इसके लिए बैंक और ओटीटी/डीटीएच की तरफ़ से ग्राहकों को 24 घंटे पूर्व एक संदेश जारी होगा. यह संदेश उनके लिए होगा, जो डिबेट या मोबाइल वाॅलेट के माध्यम से बैंक या वित्तीय संस्थाओं को 5,000 रुपए से अधिक का भुगतान करते हैं 

कुल मिलाकर इसे ऐसे समझा जा सकता है कि, अब ग्राहक से मंज़ूरी लिए बिना बैंक आपके डेबिट कार्ड से कोई भी भुगतान नहीं करेगा. हालांकि, ये नियम 1 अप्रैल, 2021 से ही लागू होना था, मगर RBI ने इसमें 6 महीने की छूट देकर, इसे 1 अक्टूबर, 2021 कर दिया. माना जा रहा है कि, RBI द्वारा ऑटो डेबिट भुगतान के बंद करने का असर सबसे ज़्यादा, ओटीटी और डीटीएच सेवा का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों पर पड़ेगा. इस कारण, 1 अक्टूबर, 2021 से Netflix, Hotstar, आदि के उपभोक्ताओं को कुछ परेशानी हो सकती है. 

वहीं RBI के अलावा, आज से Allahabad Bank, Oriental Bank of Commerce और United Bank of India की पुरानी चेकबुक भी अमान्य हो रही है. वहीं SEBI ने डीमैट खाताधारकों को KYC के लिए 30 सितंबर, 2021 तक का समय दिया था, जो आज समाप्त हो गया है. आपको बता दें, कि डीमैट खातों का इस्तेमाल शेयर बाज़ार में निवेश के लिए होता है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com