Rahul Gandhi: संसद के बाद अब विपक्ष का प्रदर्शन सड़क पर

Rahul Gandhi: संसद के बाद अब विपक्ष का प्रदर्शन सड़क पर

आज गुरुवार को विपक्षी दलों ने केंद्र सरकार के खिलाफ रोष दिखाते हुए संसद से विजय चौंक तक पैदल मार्च किया है. विपक्ष द्वारा किए हुए इस मार्च में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष Rahul Gandhi समेत करीब 15 दलों के नेता मौजूद थे. विपक्ष आरोप लगा रहा हैं कि सरकार उनकी आवाज को अनसुना कर रही है. विपक्ष नेताओं के मार्च से पहले कांग्रेस नेता Mallikarjun Kharge के कक्ष में विपक्षी नेताओं की बैठक भी हुई थी. 

मार्च के दौरान विपक्षी दलों ने केंद्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं. वहीं विपक्षी दलों ने किसान आंदोलन को समर्थन देते हुए तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग भी की है. कांग्रेस सांसद Rahul Gandhi ने मोदी सरकार पर कई आरोप लगाए हैं. Rahul ने आरोप लगाते हुए कहा कि, "राज्यसभा में पहली बार ऐसा हुआ की सांसदो की पिटाई की गई. संसद में बाहर से लोगो को बुलाकर सांसदो के साथ धक्का मुक्की की गई. सभापति की जिम्मेदारी होती है कि वे विपक्ष की बात को संसद में रखने को मंजूरी दे. 

Rahul ने आगे कहा कि, देश के प्रधानमंत्री Narendra Modi वर्तमान में देश को बेचने का काम के रहे हैं. कुछ उद्योगपतियों के लिए प्रधानमंत्री देश की आत्मा बेच रहे हैं. हमारी ओर से पेगासस, किसान आंदोलन, महंगाई समेत कई मुद्दे संसद में उठाए गए. केंद्र सरकार लोकतंत्र को हत्या कर रही है. 

वहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के अध्यक्ष Sharad Pawar ने कहा की, "मैने अपने 55 साल के राजनीतिक जीवन में ऐसी स्थिति कभी नहीं देखी कि महिला सांसदो पर संसद में हमला किया गया हो. सांसदो को नियंत्रित करने के लिए बाहर से 40 से अधिक पुरुष और महिलाओं को बुलाया गया हो. यह काफी दर्दनाक स्थिति है. 

इनके अलावा शिवसेना सांसद Sanjay Raut, कांग्रेस नेता Mallikarjun Kharge, तृणमूल कांग्रेस (TMC) सांसद Derek-O-Brien ने भी केंद्र पर लोकतंत्र की हत्या के आरोप लगाए हैं. 

ये दल रहे मौजूद 

कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP), तृणमूल कांग्रेस(TMC), शिवसेना, राष्ट्रीय जनता दल (RJD), समाजवादी पार्टी (SP), द्रमुक पार्टी समेत 15 दल मौजूद रहे.

यह भी पढ़ें: Monsoon Session Updates: हंगामे के बाद भावुक हुए राज्यसभा सभापति Venkaiah Naidu, लोकसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com