“लॉकडाउन से बहुत बुरी तरह प्रभावित हुई है इकॉनमी”: Rahul Bajaj

Rahul Bajaj ने चेयरमैन के तौर पर शेयर होल्डर्स के साथ साझा किये अपने विचार
Rahul Bajaj ने चेयरमैन के तौर पर शेयर होल्डर्स के साथ साझा किये अपने विचार

Rahul Bajaj ने, Bajaj Auto के अध्यक्ष के रूप में अपना आखिरी भाषण दिया है. इस भाषण में उन्होंने मुख्य रूप से, लॉकडाउन, अर्थव्यवस्था, व्यापार और रोजगार पर बात की है. विश्व की जानी मानी ऑटोमोबाइल कंपनी के पूर्व चेयरमैन, कंपनी के शेयर होल्डर्स को आखिरी बार संबोधित कर रहे थे.

कंपनी ने Rahul Bajaj के स्थान पर Niraj Bajaj को नया चेयरमैन नियुक्त कर लिया है. जिन्होंने, 1 मई 2021 से, कंपनी की बागडोर अपने हाथों में ले ली है. 

अपने आखिरी संबोधन में, Rahul Bajaj ने स्पष्ट शब्दों में बयान दिया है, कि "हमें यह उम्मीद करनी चाहिए कि तेजी से हो रहा टीकाकरण, मास्क और सोशल डिस्टेंसिग का सख्ती से पालन, कोरोना की इस दूसरी लहर को रोकने में हमें जल्द कामयाबी देगा. साथ ही, हम इसकी भी उम्मीद करते हैं, कि महामारी के कारण अब और लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा, क्योंकि इसका सीधा असर बिजनेस, इकोनॉमी और रोजगार पर पड़ता है".

पिछले साल, कोरोना महामारी के दौरान देश के अंदर 6 हफ्ते का संपूर्ण लॉकडाउन लगा दिया गया था. जिसमें ऑटोमोबाइल फैक्ट्री और शोरूम भी शामिल थे. त्योहारों के सीजन की बदौलत ही फैक्ट्री और शोरूम थोड़ा संभल पाए थे. 

 इस साल, मार्च में आई कोरोना की दूसरी लहर ने, बिजनेस पर गहरा असर डाला था. इस वक्त, देश के ज्यादातर राज्यों ने, लॉकडाउन की घोषणा कर दी थी. जिसका असर, अप्रैल – मई में देखने को मिला था. हालांकि जून में राहत पैकेज मिलने पर, स्थितियों में काफी सुधार हुआ है.

अपने संबोधन में Rahul Bajaj ने यह भी कहा, कि "इस बात का सबूत नहीं है, कि लॉकडाउन से कोरोना नियंत्रण में आया था. लेकिन इस बात का ठोस सबूत जरूर है, कि लॉकडाउन से इकोनॉमी को भारी नुकसान हुआ है. साथ ही, दिहाड़ी मजदूरों की आजीविका भी खतरे में पड़ गई. जिस वजह से भारी संख्या में पलायन देखा गया है".

उन्होंने संबोधन के अंत में यह भी कहा, कि "यह चेयरमैन के तौर पर मेरा आखिरी पत्र है. मैं इस मंच के माध्यम से और नहीं लिखूंगा. पर आप और यह कंपनी, हमेशा मेरे दिल में रहेगी".

Rahul Bajaj, Bajaj Auto Group में लगभग पांच दशक तक चेयरमैन रहे थे. साथ ही, वह देश के सफलतम और मशहूर उद्योगपतियों में शामिल रहे हैं. फिलहाल, 30 अप्रैल 2021 को उन्होंने चेयरमैन पद को छोड़ने का ऐलान कर दिया था. जो उसी दिन से प्रभाव में आ गया था. इस फैसले की वजह उनकी बढ़ती उम्र को माना जा रहा है. Rahul Bajaj 83 साल के हैं. 

Rahul Bajaj ने, Bajaj Group की कमान वर्ष 1965 में अपने हाथों में ली थी. उस वक़्त भारत, बंद अर्थव्यवस्थाओं की सूची में शामिल था.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com