‘रावण’ विवाद पर मल्लिकार्जुन खड़गे ने दी प्रतिक्रिया, कहा भाजपा ने किया टिप्पणी का दुरुपयोग

 ‘रावण’ विवाद पर मल्लिकार्जुन खड़गे ने दी प्रतिक्रिया, कहा भाजपा ने किया टिप्पणी का दुरुपयोग

कांग्रेस (Congress) अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) ने हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को 'रावण' कहा था, जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी (BJP) की तीखी प्रतिक्रिया आई थी. अब अपने विवादास्पद बयान के कुछ दिनों बाद, कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा है कि वह किसी व्यक्ति पर टिप्पणी नहीं करते और ना ही कोई व्यक्तिगत टिप्पणी करते हैं.

'रावण' वाले बयान पर उठे विवाद पर प्रतिक्रिया देते हुए मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, कि राजनीति व्यक्तियों के बारे में नहीं बल्कि नीतियों के बारे में होती है, लेकिन गुजरात (Gujarat Assembly Elections) में अपने चुनावी लाभ के लिए भाजपा उनकी टिप्पणियों का "ग़लत इस्तेमाल" कर रही है. उन्होंने कहा, "हमारे लिए, राजनीति व्यक्तियों के बारे में नहीं है. यह नीतियों के बारे में है, यह उनके (भाजपा के) प्रदर्शन के बारे में है, और यह उस प्रकार की राजनीति के बारे में है जो वह करते हैं. वह इसे केवल एक व्यक्ति के बारे में बनाते हैं. भाजपा की शैली राजनीति में अक्सर लोकतंत्र की भावना की कमी होती है. मैंने चुनाव के सभी स्तरों पर उनके (प्रधानमंत्री) प्रचार करने के तरीके के बारे में कई उदाहरण दिए हैं, लेकिन वह चुनावी लाभ के लिए मेरी टिप्पणियों का ग़लत इस्तेमाल कर रहे हैं.”

उन्होंने आगे कहा, "मैं किसी व्यक्ति पर टिप्पणी नहीं करता और ना ही कोई व्यक्तिगत टिप्पणी करता हूँ, क्योंकि मेरे पास भी 51 साल का राजनीति का अनुभव है. मैंने विकास, महंगाई, बेरोज़गारी और गरीबी के मुद्दों पर उनकी (भाजपा सरकार की) आलोचना की."

आपको बता दें, इस हफ्ते की शुरुआत में अहमदाबाद में एक रैली के दौरान मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा था, कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभी चुनावों में लोगों से अपना चेहरा देखकर वोट करने के लिए कहते हैं. उन्होंने प्रधानमंत्री से कटाक्ष करते हुए पूछा था, कि “क्या आप रावण की तरह 100 सिर वाले हैं?” इसके बाद, उनकी इसी टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा ने इसे ‘गुजरात के बेटे का अपमान’ बताया.

Image Source

यह भी पढ़ें: मल्लिकार्जुन खड़गे के प्रधानमंत्री को ‘रावण’ कहने पर खड़ा हुआ राजनीतिक बवाल

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com