UPGIS 2023: हीरो, एवन और वैप ग्रुप करेंगे 3000 करोड़ का निवेश

UPGIS 2023: हीरो, एवन और वैप ग्रुप करेंगे 3000 करोड़ का निवेश

भारतीय उद्यमियों के एक समूह ने हाल ही में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शिष्टाचार भेंट की. इसके साथ ही, उन्होंने ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट (Global Investors Summit 2023) यानी (UPGIS 2023) में हिस्सा लेने के लिए उत्साह भी जताया. गौरतलब है, कि इस समिट में मुख्यमंत्री के सामने एवन साइकिल ग्रुप ने 500 करोड़, हीरो ग्रुप ने 350 करोड़, वैप ग्रुप से 2000 करोड़, सूर्यांश ग्रुप ने 100 करोड़ रुपये का निवेश करने का प्रस्ताव रखा है. 

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करने वालों में हीरो साइकिल के सीएमडी पंकज मुंजाल (Pankaj Munjal), एवन साइकिल के सीएमडी ओमकार सिंह पाहवा (Omkar Singh Pahwa), वैप ग्रुप के सीएमडी और सीईओ अमित शर्मा (Amit Sharma), बायलर ग्रुप के टीआर मिश्रा (TR Mishra), सूर्यांश ग्रुप के सुनील सिंह पटेल (Sunil Singh Patel) शामिल थे.

इस दौरान मुख्यमंत्री ने उद्यमियों के निवेश प्रस्तावों पर खुशी जताते हुए निवेशकों की सुरक्षा और जरूरतों को पूरा करने का आश्वासन दिया. इसके अलावा, इन प्रस्तावों के समय पर शुरू और पूरा करने के लिए अधिकारियों को निर्देशित भी किया है.

योगी आदित्यनाथ ने कहा, कि सरकार 10 से 12 फरवरी तक लखनऊ में एक ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन करने जा रही है. वहीं, प्रति व्यक्ति आय में बढ़ोतरी के लक्ष्य के साथ हमारी कोशिश है, कि राज्य में उपलब्ध असीम व्यावसायिक अवसरों से देश और दुनिया को फायदा हो सके. उन्होंने यह भी बताया है, कि प्रदेश सरकार राज्य में अनेक औद्योगिक परियोजनाओं पर काम कर रही है. वहीं, औद्योगिक विकास के अनुकूल ईको सिस्टम बनाने की दिशा में प्रदेश सरकार ने बहुत से सुधारात्मक कदम उठाए हैं.

आगे उन्होंने यह भी कहा, कि प्रदेश में अलग-अलग क्षेत्रों में निवेश आकर्षित करने के लिए लगभग 25 नीतियां बनाकर नीति संचालित शासन के माध्यम से औद्योगिक विकास किया जा रहा है. इनमें आईटी/आईटीईएस, डेटा सेंटर, ईएसडीएम, रक्षा और एयरोस्पेस, इलेक्ट्रिक वाहन, वेयरहाउसिंग और लॉजिस्टिक्स, पर्यटन, कपड़ा, एमएसएमई आदि शामिल हैं.

Image Source


यह भी पढ़ें: कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के साथ जुड़े जगदीश टाइटलर, भाजपा ने किया विरोध

Related Stories

No stories found.
logo
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com