PMKSY: अब इस योजना के तहत किसानों को मिल सकती है दोगुनी रकम

PMKSY: अब इस योजना के तहत किसानों को मिल सकती है दोगुनी रकम

केंद्र सरकार, किसानों के लिए जल्द ही एक खुशखबरी का ऐलान कर सकती है. किसानो को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (PMKSY) योजना के तहत मिलने वाली रकम दोगुनी हो सकती है. केंद्र सरकार द्वारा इसका ऐलान आने वाले समय में किया जा सकता है. आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि  केंद्र सरकार किसानों को अब 6 हजार की जगह प्रति वर्ष 12 हजार रुपये देने का विचार बना रही है. 

बिहार के कृषि मंत्री Amrendra Pratap Singh, ने केंद्रीय कृषि मंत्री Narendra Singh Tomar और वित्त मंत्री Nirmala Sitharaman से मुलाकात की. इसके बाद उन्होंने कहा, कि PMKSY के तहत किसानों को दी जा रही रकम, शीघ्र ही दोगुनी होगी. कृषि मंत्री ने कहा, मोदी सरकार किसानों की आय डबल करने की मुहिम के तहत यह रकम दोगुना कर रही है. 

रविवार को प्रधानमंत्री Narendra Modi ने कहा था, कि केंद्र की राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार देश के किसानों का जीवन आसान बनाने के लिए निरंतर प्रयास कर रही है. उन्होंने कहा, कि PMKSY भी ऐसा ही एक प्रयास है, जिससे किसानों के जीवन में सकारात्मक बदलाव आया है. आपको बता दें, कि पीएम Modi ने बीते सोमवार को देश के 9.75 करोड़ से ज्यादा किसानों के खातों में 19,500 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए हैं. 

PM Narendra Modi ने ट्वीट करते हुआ कहा था, कि देश के परिश्रमी किसानों के जीवन को ज्‍यादा से ज्‍यादा आसान बनाने के लिए हमारी सरकार निरंतर काम कर रही है. इस अवसर पर उन्हें इस योजना के कुछ लाभार्थियों के साथ संवाद करने का मौका मिलेगा. उन्होंने कहा था, कि इस योजना से जिस प्रकार हमारे किसान भाई-बहनों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आया है. वह अत्यंत हर्ष का विषय है. 

जानिए क्‍या है PMKSY

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि पीएम-किसान योजना के तहत पात्र लाभार्थी किसान परिवारों को 6000 रुपये प्रति वर्ष का वित्तीय लाभ दिया जाता है. इस राशि का भुगतान 2000 रुपये की तीन किस्तों में प्रति चार माह में किया जाता है. इस धनराशि को सीधे लाभार्थियों के बैंक खातों में भेजा जा रहा है. बता दें, कि इस योजना के तहत, अब तक 1.38 लाख करोड़ रुपये से ज्‍यादा की सम्मान राशि किसान के परिवारों के बैंक खातों में भेजी जा चुकी है. 

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com