Rajiv Gandhi Birth Anniversary: उत्तर प्रदेश सरकार की पहल, पूर्व प्रधानमंत्री की जयंती पर मनाया जाएगा सद्भावना दिवस

Rajiv Gandhi Birth Anniversary: उत्तर प्रदेश सरकार की पहल, पूर्व प्रधानमंत्री की जयंती पर मनाया जाएगा सद्भावना दिवस

आज भारत के पूर्व प्रधानमंत्री Rajiv Gandhi की 77वीं पुण्यतिथि है. इस मौके पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष Rahul Gandhi ने अपने पिता की समाधि पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी. वहीं Rajiv Gandhi की पुण्यतिथि पर उत्तर प्रदेश सरकार ने एक नई पहल की आज 20 अगस्त के दिन को सद्भावना दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया है. योगी सरकार ने इसको लेकर प्रदेश के सभी विभागों को निर्देश भी जारी कर दिए हैं.

आपको बता दें, की आज ही के दिन 20 अगस्त, 1944 को भारत के पूर्व प्रधानमंत्री Rajiv Gandhi का जन्म हुआ था. वे भारत के सबसे कम उम्र में बनने वाले प्रधानमंत्री थे. 21 मई, 1991 को एक तमिल संगठन के आत्मघाती हमले में उनकी हत्या कर दी गई. दरअसल, इसके पीछे उनके कार्यकाल में श्रीलंका भेजी गई शांति सेना को वजह माना गया. Rajiv Gandhi ने श्रीलंका में हो रहे गृहयुद्ध को शांत करवाने की लिए एक शांति सेना भेजी थी. यह बात तमिल विद्रोही संगठन लिट्टे को पसंद नहीं आई. फिर साल 1991 के लोकसभा चुनावों के प्रचार के दौरान Rajiv Gandhi चेन्नई के श्रीपेराम्बदुर गए हुए थे, जहां पर एक आत्मघाती हमले में उनकी हत्या कर दी गई. 

लिट्टे संगठन की एक महिला ने उन्हें फुलों का हार पहनाने के बहाने, पैर छूते समय कमर पर लगे बॉम्ब को बलास्ट कर दिया. इस विस्फोट में पूर्व प्रधानमंत्री समेत 16 लोगो की मौत हुई थी. जबकि 45 लोग गंभीर अवस्था में थे. 

कहा यह भी जाता है, कि Rajiv Gandhi राजनीति में नहीं आना चाहते थे. राजनीति में आने से पहले वे साल 1980 तक इंडियन एयरलाइंस में पायलट थे. अपने छोटे भाई Sanjay Gandhi की मृत्यु के बाद Rajiv Gandhi ने राजनीतिक गतिविधियों में भाग लेना शुरू किया. उन्होंने अपने छोटे भाई की लोकसभा सीट अमेठी से चुनाव लड़ा और वहां से जीत हासिल की. 

Rajiv Gandhi महज़ 40 साल की उम्र में साल 1984 के चुनावों में कांग्रेस की जीत के बाद प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठे. उन्हें देश में आधुनिक क्रांति का जनक कहा जाता है. अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने देश के प्रत्येक राज्यों के ज़िलों में गरीब बच्चों के लिए जवाहर नवोदय विद्यालय स्थापित किए.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com