Sushma Swaraj Death Anniversary: जानिए कैसे बनी एक वकील देश की विदेश मंत्री

Sushma Swaraj Death Anniversary: जानिए कैसे बनी एक वकील देश की विदेश मंत्री

स्वर्गवासी Sushma Swaraj भारत की सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्री रहीं है. उनका जन्म 14 फरवरी, 1952 में अंबाला में हुआ था. वहीं से उन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी की. फिर साल 1973 में उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में एक वकील के तौर पर काम करना शुरू किया. उन्होंने केवल 25 साल की उम्र में ही हरियाणा विधानसभा में एक सीट जीती थी. इसके बाद जुलाई 1977 में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (BJP) में एक कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली. तभी से वे पार्टी के सबसे प्रमुख चेहरों में से एक बन गईं थी. 

Sushma Swaraj ने पार्टी के विकास में बहुत योगदान दिया और कभी भी चुनौतियों का सामना करने से नहीं कतराईं. उन्हें साल 1979 में हरियाणा से भाजपा का राज्य अध्यक्ष बनाया गया. इसके कुछ साल बाद मुख्यमंत्री Devi Lal के आधीन अन्हें साल 1987 से साल 1990 तक शिक्षा मंत्री बनाया गया था. वे अप्रैल 1990 तक राज्यसभा की सदस्य थीं, जिसके बाद साल 1996 में उन्हें 11वें लोकसभा चुनाव में दक्षिणी दिल्ली के निर्वाचन क्षेत्र से चुना गया.

साल 1996 में प्रधानमंत्री Atal Bihari Vajpayee की 13 दिनों की सरकार में Sushma Swaraj ने सूचना और प्रसारण मंत्री के रूप में कार्य किया. इसके बाद राष्ट्रीय स्तर की राजनीति में कार्यकाल के बाद, अक्टूबर 1998 में केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा देकर दिल्ली की पांचवी मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभाला. वह दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं और उसी साल दिसंबर में  उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया.

अप्रैल 2000 में सुष्मा, उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सदस्य के रूप में संसद लौटीं. उसी साल नवंबर 2000 में जब उत्तर प्रदेश से निकलकर एक नया राज्य उत्तराखंड बना तब सुष्मा को फिर से आवंटित किया गया. उन्हें सूचना और प्रसारण मंत्री के रूप में केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया गया. वह सितंबर 2000 से जनवरी 2003 तक इस पद पर रहीं थी. इसके  बाद उन्होंने स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री की कुर्सी संभाली. इस दौरान सुष्मा ने 6 ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज स्थापित किए.

दिसंबर 2009 मे 15वें लोकसभा चुनाव में सुष्मा विपक्ष की नेता बनीं और मई 2014 तक इस पद पर बनी रहीं. जब साल 2014 में भारत में हुए चुनाव में भाजपा ने एक बड़ी जीत हासिल की, तब सुष्मा ने मई 2014 से मई 2019 तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अधीन भारतीय विदेश मंत्री के पद पर काम किया. वह इंदिरा गांधी के बाद इस पद को संभालने वाली दूसरी महिला थीं.

Sushma Swaraj ने समाज के उन सभी लोगों को मुंह तोड़ जवाब दिया, जो महिलाओं को हतोत्साहित करते हैं. वे राष्ट्रीय स्तर पर पहली महिला प्रवक्ता थीं. इसके अलावा वे दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री रही हैं. अपने जीवन में इतनी उपलब्धियां हासिल करने के बाद 6 अगस्त, 2019 को भारत की इस आयरन लेडी का निधन हो गया. लेकिन मृत्यु के बाद आज भी वो कई युवा लड़कियों के लिए एक प्रेरणा का स्त्रोत बनी हुई है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com