Mutual Funds: बेहतर निवेश या ज्यादा खतरा

Mutual Funds: बेहतर निवेश या ज्यादा खतरा

म्यूचुअल फंड निवेश आज के समय में तेजी से लोकप्रिय होता जा रहा है. शेयर बाजार और अन्य क्षेत्रों में निवेश के लिए निवेशक अब Mutual Fund का सहारा ले रहे हैं. लेकिन अब भी आम जनता और निवेशकों का एक बड़ा तबका ऐसा है जो कि निवेश के लिए म्यूचुअल फंड को लेकर आश्वस्त नहीं है. विश्वास की कमी या अन्य वजहों से लोग Mutual Fund के जरिए निवेश करने में कतराते भी हैं. अगर आपके मन में भी Mutual Fund को लेकर कोई आशंकाएं या सवाल है तो आप इस रिपोर्ट को पूरा पढ़ें. हम आपके सामने Mutual Fund से जुड़ी जरूरी जानकारियां प्रस्तुत करेंगे, जिनकी मदद से आप खुद यह फैसला ले सकते हैं कि आपको म्युचुअल फंड के जरिए निवेश करना चाहिए या नहीं.

Mutual Fund क्या है ?

जैसा कि नाम से जाहिर है म्यूचुअल फंड ने कई लोगों का पैसा इकट्ठा किया जाता है, इस इकट्ठे हुए पैसे से एक फंड बनाया जाता है. इसके बाद इकट्ठे हुए फंड के पैसों का इस्तेमाल शेयर बाजार, बॉन्ड मार्केट और अन्य दूसरी जगहों में निवेश के लिए किया जाता है. निवेशक द्वारा फंड में जितने पैसे दिए जाते हैं, उसी के अनुपात में उसे फंड की यूनिटें हासिल होती हैं. यह यूनिट निवेशक म्यूचुअल फंड में निवेशक की हिस्सेदारी को दर्शाती हैं. Mutual Fund द्वारा किए गए निवेश से जो भी पैसा हासिल होता है, वह यूनिट के हिसाब से सभी Mutual Fund के हिस्सेदारों में बांट दिया जाता है.

Mutual Fund के पैसे और अन्य व्यवस्थाओं को ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी यानी एएमसी के द्वारा मैनेज किया जाता है. यह कंपनियां Mutual Fund के लिए इकट्ठे हुए पैसों का एक छोटा सा हिस्सा अपने खर्चों को पूरा करने के लिए फीस के तौर पर लेती हैं.

Mutual Funds में निवेश कैसे करें

अन्य निवेशकों की तुलना में म्युचुअल फंड का निवेश काफी सरल और आसान है. म्यूचुअल फंड में निवेश आप खुद ही कर सकते हैं या अगर चाहे तो किसी ब्रोकर की सहायता भी ले सकते हैं. ऐसा करने के लिए आप सबसे पहले अपने बैंक में जाकर एक बैंक डिमैट अकाउंट खुलवाने की जरूरत पड़ेगी. बेहतर प्लानिंग और नियमित तौर पर निवेश करने के लिए आप एसआईपी की मदद ले सकते हैं. सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी एसआईपी आपको अपने निवेश को व्यवस्थित करनी का विकल्प मुहैया कराती है. इसकी मदद से आप यह तय कर सकते हैं कि आप कितने वक्त के लिए निवेश करेंगे और कितना निवेश करेंगे.

यदि आप एक ही बार में निवेश करने में यकीन रखते हैं तो आपके लिए एसआईपी के बजाय लम्प सम का विकल्प बेहतर रहेगा. लम्प सम में आप निवेश के लिए राशि एक ही बार में चुका देते हैं.

क्या यह सुरक्षित हैं?

म्यूचुअल फंड में निवेश कई दूसरे निवेश की तुलना में अधिक सुरक्षित है. म्यूचुअल फंड में लगाया गया आपका पैसा अलग अलग क्षेत्रों में निवेश किया जाता है, जिसकी वजह से आपका पैसा डूबने की संभावना कम होती है. इसके अलावा अगर आपको Mutual Fund निवेश मैनेज करने वाली कंपनी यानी कि एएमसी के प्रति आश्वस्त रहने की जरूरत है. क्योंकि बाजार में उतरने से पहले सभी एमसी को सेबी के के पास रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होता है और उन्हें अपनी रिपोर्ट लगातार सौंपनी  होती है. इस प्रकार यह कंपनियां मार्केट रेगुलेटर के प्रति जवाबदेह होती हैं, जो कि इन्हें विश्वसनीय बनाता है.

अगर आपके पास केवल 500 रुपया है तो भी आप म्यूचुअल फंड में निवेश की शुरुआत कर सकते हैं. म्यूचुअल फंड में भारतीय और गैर रिहायशी भारतीय (NRI) भी निवेश कर सकते हैं. अगर आप अपने नाम निवेश नहीं करना चाहते हैं तो आप के पास अपने जीवनसाथी या बच्चों के नाम पर भी निवेश की शुरुआत करने का विकल्प मौजूद है.

म्यूचुअल फंड में शॉर्ट टर्म निवेश और लॉन्ग टर्म निवेश दोनों का ही विकल्प मौजूद है. हालांकि, अक्सर यह देखने में आया है कि Mutual Fund में शॉर्ट टर्म निवेश के बजाय लॉन्ग टर्म निवेश अधिक फायदा देता है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com