Minimum wages: दिल्ली सरकार ने बढ़ाया महंगाई भत्ता, मजदूरों से लेकर उच्च शिक्षित वर्ग सबको मिलेगा फ़ायदा.

Minimum wages: दिल्ली सरकार ने बढ़ाया महंगाई भत्ता, मजदूरों से लेकर उच्च शिक्षित वर्ग सबको मिलेगा फ़ायदा.
Daily wage laborers move bricks at the construction site of a housing block in Sector 105 of Noida, in Uttar Pradesh, India, on Thursday, Aug. 30, 2012. India’s economy grew more than estimated last quarter after the central bank cut interest rates to support spending at home. Photographer: Sanjit Das/Bloomberg via Getty Images

दिल्ली सरकार ने सभी श्रमिकों को उपहार देने का फैसला किया है. COVID-19 लॉकडाउन के कारण श्रमिकों की आजीविका सबसे अधिक प्रभावित हुई है.इसी को देखते हुए, राज्य सरकार द्वारा minimum wages को बढ़ाने का फ़ैसला लिया गया है. दिल्ली सरकार ने शुक्रवार को सभी अनुसूचित रोजगारों में अकुशल, अर्धकुशल, कुशल और अन्य श्रमिकों के लिए महंगाई भत्ते में वृद्धि की है. इस योजना से उनके न्यूनतम वेतन की कुल राशि में वृद्धि हुई है. 

गरीबों की सहायता के लिए उठाया गया है कदम

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इसके बारे में जानकारी देते हुए कहा की,"यह कदम निम्न वर्ग के हित में उठाए गए हैं. जिन्हें वर्तमान (COVID-19) महामारी के कारण अत्यधिक नुकसान हुआ है. इस आदेश से क्लेरिकल और सुपरवाइजर की नौकरी करने वालो को  भी लाभ होगा. असंगठित क्षेत्र के न्यूनतम वेतन पर कार्यरत मजदूरों को महंगाई भत्ते से वंचित नहीं किया जाना चाहिए. महंगाई भत्ते के तहत, अकुशल मजदूरों का मासिक वेतन 15,492 रुपये से बढ़ाकर 15,908 रुपये कर दिया गया है."

सुपरवाईजर और क्लर्को की आय में भी बढ़ोतरी 

मनीष सिसोदिया ने यह भी बताया कि, "सुपरवाईजर और क्लेरिकल काम करने वाले कर्मचारियों के न्यूनतम वेतन दरों में भी बढ़ोतरी की गई है. अब से गैर-मैट्रिक कर्मचारियों के लिए मासिक वेतन 17,537 रुपये और मैट्रिक  कर्मचारियों के लिए मासिक वेतन 19,291 रुपये कर दिया गया है".

उच्च शिक्षित वर्ग को भी मिला है फायदा

मनीष सिसोदिया ने अपने बयान में बताया कि, इस योजना से उच्च शिक्षित वर्ग को भी काफी फायदा मिला है. स्नातकों और उच्च शैक्षणिक योग्यता वाले लोगों के लिए मासिक वेतन 20,430 रुपये से बढ़ाकर 20,976 रुपये कर दिया गया है.

दिल्ली मे मिल रही है सब राज्यों से अधिक minimum wages

मनीष सिसोदिया ने अपने बयान में कहा कि,"आम आदमी पार्टी (आप) की दिल्ली में न्यूनतम मजदूरी दर, किसी भी अन्य राज्य की तुलना में सबसे ज्यादा है. कोरोना महामारी ने समाज के हर वर्ग को नुकसान पहुंचाया है. तेल और दालों जैसी दैनिक आवश्यक वस्तुओं की बढ़ती कीमतों ने आम जनता के संकट को बढ़ा दिया है. मुझे उम्मीद है कि मजदूरी में यह वृद्धि हमारे श्रमिक भाइयों को कुछ राहत प्रदान करेगी."

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com