One district One Product initiative: एक कदम आत्मनिर्भर भारत की ओर

One district One Product initiative: एक कदम आत्मनिर्भर भारत की ओर

भारत एक कृषि प्रधान देश है. कृषि उत्पादों पर निर्भर रहने के साथ-साथ, भारत में बहुत से गैर कृषि विनिर्माण भी शामिल हैं. यह सभी विनिर्माण इस प्रकार के हैं, कि यह भारत की जनता को उत्पादन एवं आजीविका प्रदान करने का एकमात्र सहारा बनते हैं. उत्तर प्रदेश सरकार के नेतृत्व में One District One Product Scheme एक महत्वपूर्ण पहल है, जिसे प्रत्येक जिले की वास्तविक क्षमता का एहसास करने के लिए पूरे भारत में अपनाया जा रहा है.

इस योजना की शुरुआत वर्ष 2018 में हुई थी. इसका उद्देश्य आर्थिक विकास में तेजी लाना, रोजगार पैदा करना और ग्रामीण उद्यमिता को बढ़ावा देना है. लेकिन आज 4 वर्षों के बाद, One District One Product Scheme भारत के हर जिले को निर्यात केंद्र में बदलने और आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्य को साकार करने के आह्वान के अनुरूप काम कर रही है. यह योजना स्थानीय, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों, MSME द्वारा निर्मित हस्तशिल्प, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ, वस्त्र और अन्य पारंपरिक उत्पादों के स्वदेशी उद्योगों को बढ़ावा दे रही है.

क्यों शुरू की गई One District One Product Scheme?

यह योजना सबसे पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री Yogi Adityanath के द्वारा शुरू की गई थी.इस योजना को बहुत ही विशिष्ट उद्देश्य के साथ शुरू किया गया था, क्योंकि यूपी में ऐसे उत्पाद हैं जो प्राचीन हैं और सबसे विशिष्ट गुणों से भरपूर हैं. इनमे भी मुख्य है:- 'काला नमक' चावल, गेहूं-डंठल शिल्प की दुर्लभ तकनीक, प्रसिद्ध चिकनकारी और जरी-जरदोजी का काम. इनमें से कई उत्पादों को GI टैग दिया गया है. वे उत्तर प्रदेश के उस क्षेत्र से संबंधित होने के लिए प्रमाणित हैं. इनमें से कई मरती हुई सामुदायिक परंपराएं भी थीं, जिन्हें आधुनिकीकरण और प्रचार के माध्यम से पुनर्जीवित किया जा सकता है.

One District One Product Scheme की मदद से आज जम्मू कश्मीर के सेब और अखरोट, विश्व भर में अपनी पहचान को और मजबूत कर रहे हैं. क्योंकि, इस योजना से इन खाद्य पदार्थों की निर्यात क्षमता में बढ़ोतरी हुई है.

इस योजना के अंतर्गत, आधुनिक तकनीक से चलने वाली मशीनरी और ट्रेनिंग का इस्तेमाल कर, आसाम के सिल्क निर्माताओं को काफी फायदा मिल रहा है. पहले इस काम को कारीगरों द्वारा हाथ से किया जाता था और उन कारीगरों को इस काम की कीमत काफी कम मिलती थी. अब मशीनों की मदद से यह कारीगर पहले से ज्यादा काम करते हैं और One District One Product Scheme की मदद से उनके काम का उचित मूल्य भी प्राप्त होता है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com