LIC IPO: कंपनी के IPO को मंजूरी मिलने की संभावना, तेज हुई प्रक्रिया

A man pass by a building of LIC (Life Insurance Corporation) in Kolkata, India, 01 February, 2021. Finance Minister Nirmala Sitharaman on Monday annonced that the initial public offer (IPO) of Life Insurance Corporation (LIC) will be completed this year. Centre will introduce the initial public offer (IPO) of Life Insurance Corporation LTD. (LIC) in 2022 according to an Indian media report.   (Photo by Indranil Aditya/NurPhoto via Getty Images)
A man pass by a building of LIC (Life Insurance Corporation) in Kolkata, India, 01 February, 2021. Finance Minister Nirmala Sitharaman on Monday annonced that the initial public offer (IPO) of Life Insurance Corporation (LIC) will be completed this year. Centre will introduce the initial public offer (IPO) of Life Insurance Corporation LTD. (LIC) in 2022 according to an Indian media report. (Photo by Indranil Aditya/NurPhoto via Getty Images)

भारत की प्रमुख इंश्योरेंस कंपनी, Life Insurance Corporation (LIC) के लिए सूत्रों के हवाले से अच्छी खबर आ रही है. कंपनी के IPO को, Cabinet Committee on Economic Affairs (CCEA) ने मंजूरी दे दी है. साथ ही, मार्च 2022 तक इसके सूचीबद्ध हो जाने की भी उम्मीद है. जिसके बाद, देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी, LIC की राह IPO को लेकर आसान होती दिखाई दे रही है. यह स्पष्ट दिखाई दे रहा है, कि LIC देश का सबसे बड़ा IPO होगा.

ज्ञात सूत्रों के मुताबिक, फिलहाल अभी कुछ फैसले नहीं भी लिए गए है. जिनमें, प्राइसिंग और हिस्सेदारी की मात्रा मुख्य है. कंपनी की बात करें, तो वो अभी इम्बेडेड वैल्यू और इंटरनल इफिसिएन्सी पर काम कर रही है. कहा जा रहा है, कि सरकार की पूरी कोशिश है, कि LIC IPO बाजार में जल्द आए. 

आपको बता दें, कि LIC में हिस्सेदारी बेचने की घोषणा, वित्तीय वर्ष 2020- 2021 के केंद्रीय बजट के दौरान की गई थी. जो कि, वर्तमान वित्त मंत्री, निर्मला सीतारमण ने की थी. साथ ही, केंद्र ने देश के सबसे बड़े IPO के लिए अहम फैसले लिए हैं, जिसके अंतर्गत, SBI Capital Markets और Deloitte को Pre -IPO सलाहकार नियुक्त किया गया है.

LIC ने काफी कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी घटाकर शून्य कर दी है. जिसमें, Central Bank Of India, Hindustan Motors, Union Bank Of India, आदि शामिल हैं. अगर प्रतिशत के हिसाब से बात करें, तो यह बड़ी गिरावटों में से एक है. इसके अलावा, वैल्यू के आधार पर भी कंपनी की हिस्सेदारी, इस तिमाही गिरती नजर आई थी. 

 वहीं दूसरी ओर, LIC की वित्तीय वर्ष, 2019-2020 की एनुअल रिपोर्ट में नजर डालें, तो आंकड़े अच्छे नज़र आते हैं. कंपनी की, कुल अनुमानित संपत्ति लगभग 32 लाख करोड़ रुपये थी. वहीं, देश के लाइफ इंश्योरेंस बाजार की बात करें, तो कंपनी की हिस्सेदारी 69 प्रतिशत है. मौजूदा समय में, भारत सरकार के पास LIC की 100 प्रतिशत हिस्सेदारी है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com