Larsen and Toubro News: बुलेट ट्रेन परियोजना से जुड़ी कंपनी के 4500 करोड़ के प्रस्ताव पर शेयरधारकों की मुहर

Larsen and Toubro News: बुलेट ट्रेन परियोजना से जुड़ी कंपनी के 4500 करोड़ के प्रस्ताव पर शेयरधारकों की मुहर

इंजीनियरिंग क्षेत्र में बेहद सफल मानी जाने वाली कंपनी Larsen and Toubro (L&T) लगातार सुर्खियों में बनी रहती है. हाल ही में 6 अगस्त, 2021 को कंपनी ने एक विशेष प्रस्ताव की मंज़ूरी दी. इसमें कंपनी के शेयरधारकों ने Larsen and Toubro को 4,500 करोड़ रुपए जुटाने की मंज़ूरी दी है. यह बात कंपनी ने 7 अगस्त को BSE पर दाखिले के दौरान साझा की. 

Larsen and Toubro ने BSE में दाखिले में कहा कि, "AGM की नोटिस संख्या 13 में निर्धारित प्रस्ताव को बहुमत से पास किया जा रहा है". नोटिस संख्या 13 में लिखा था कि, "परिवर्तनीय बाॅंड या इक्विटी शेयर जारी करके धन जुटाया जाए. जो कि 4,500 करोड़ रुपए या 600 अमेरिकन डाॅलर से अधिक ना हो". बताया जा रहा है कि रुपए जुटाने के इस प्रस्ताव को पूर्ण बहुमत से मंज़ूरी मिली है. जिसपर फैसला कंपनी की वार्षिक जनरल बैठक के दौरान लिया गया था. 

Larsen and Toubro को हुआ है 200 गुना शुद्ध लाभ 

बात चालू वित्तीय वर्ष की जून तिमाही की करें, तो कंपनी ने शानदार नतीजे पेश किए थे. जहां Larsen and Toubro ने 287 प्रतिशत की उछाल के साथ 1,147 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ दर्ज किया है. जो कि पिछले वर्ष 303 करोड़ रुपए रहा था. जून तिमाही के नतीजों के अनुसार, कंपनी को मेट्रो, मिनरल्स और मेटल, पावर ट्रांसमिशन और डिस्ट्रीब्यूशन आदि में शानदार आर्डर मिला है.

पुल से लेकर प्रतिमा तक छाई कंपनी

इंजीनियरिंग के क्षेत्र में शानदार काम कर रही कंपनी के हिस्से में ब्रहमपुत्र नदी पर बनने वाले पुल का ठेका आया था. जो असम स्थित धुबरी को मेघालय के फुलबाड़ी से जोड़ता है. तो वहीं गुजरात स्थित Statue of Unity बनाने के बाद से कंपनी की लोकप्रियता बढ़ती ही गई है. इस बीच Larsen and Toubro को मुंबई-अहमदाबाद के बीच चलने वाली बुलेट ट्रेन का भी ठेका मिला था. इसके अलावा, कंपनी का हिंदू आस्था से संबंधित राम मंदिर निर्माण में भी नाम सामने आया था.  

आपको बता दें, कि Larsen and Toubro मुंबई स्थित एक भारतीय मल्टीनेशनल कंपनी है. जो कि इंजीनियरिंग, निर्माण, वित्तीय सेवाओं और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में सक्रिय है. इस समय इसकी सहयोगी कंपनी LTTS की भी खूब चर्चा हो रही है. जिसका नाम Mavenir नाम की अमेरिकी कंपनी के साथ मिलकर 5G नेटवर्क को स्वचालित बनाने में आगे आया है. 

Related Stories

No stories found.